मुजफ्फरपुर, जेएनएन। स्थानीय लोगों के सहयोग से बेला पुलिस के हत्थे कटिहार के कोढ़़ा गिरोह का शातिर चढ़ गया। पूछताछ में उसने छिनतई की कई घटनाओं में अपनी संलिप्तता स्वीकार की। आरोपित की पहचान कटिहार के कोढ़ा थाना क्षेत्र के जुराबगंज गेड़ाबारी के राजेश सिंह उर्फ आकूब सिंह के रूप में हुई। उसने कबूल किया कि शहर के अलावा कटिहार, पूर्णिया, हाजीपुर, समस्तीपुर समेत कई शहरों में घूम-घूमकर छिनतई की घटनाओं को अंजाम दे चुका है। 

साइकिल के चक्के में रस्सी फंसा दे रहा था अंजाम 

सदर थाना क्षेत्र के दिघरा इलाके के दीपक कुमार मिठनपुरा एसबीआइ से रुपये निकालकर साइकिल से घर के लिए निकले। बेला इलाके में बाइक सवार अपराधियों ने उनके साइकिल के चक्के पर सुतली फेंक दिया। रस्सी फंस जाने के कारण वे रुके और उसे निकालने लगे। इस क्रम में बाइक सवार बदमाशों ने साइकिल में लटके रुपये से भरे झोले को निकाल लिया। दीपक ने साहस दिखाते हुए एक को पकड़ लिया। शोरगुल पर स्थानीय लोग भी दौड़े। इस बीच दूसरा आरोपित भाग निकला। गुस्साए लोगों ने आरोपित की जमकर धुनाई कर दी। सूचना पर पुलिस पहुंची तो आरोपित को हवाले कर दिया गया।

शागिर्दों की गिरफ्तारी को हुई छापेमारी 

पूछताछ में पता चला कि उसके साथ स्थानीय अपराधी भी शामिल हैं। ये सभी नए तरीके अपनाकर लोगों को जाल में फंसाते और रुपये से भरे बैग या झोला छीनकर भाग निकलते हैं। पूछताछ में शहर में बुधवार को हुई छिनतई की दो घटनाओं को स्वीकार किया। बताया कि नगर थाना क्षेत्र के गोला रोड में छात्रा और विवि थाना क्षेत्र में सब इंस्पेक्टर से दो लाख रुपये झपटे जाने में इस गिरोह के बदमाश ही थे।

 इसके मद्देनजर विवि थाने की पुलिस आरोपित को रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। उसके शागिर्दों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने देर शाम तक बैरिया, भगवानपुर, मझौलिया समेत कई जगहों पर छापेमारी की। लेकिन, सभी फरार मिले। किराये पर मकान देने वाले मालिक पर शिकंजा कसने के लिए डीएसपी नगर ने बेला पुलिस को निर्देश दिया है। इस दिशा में पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है।

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप