मुजफ्फरपुर। सदर अस्पताल के दवा काउंटर व कोरोना निबंधन काउंटर पर सोमवार को मरीजों व उनके स्वजन ने जमकर हंगामा किया। काफी देर तक वहां अफरा-तफरी की स्थिति रही। इस संबंध में सिविल सर्जन डा. यूसी शर्मा ने उपाधीक्षक से रिपोर्ट तलब की है।

आउटडोर में चिकित्सक से परामर्श लेने के बाद मरीज और उनके स्वजन दवा काउंटर पर पहुंचे थे। वहां दवा वितरण की धीमी गति के कारण उनका आक्रोश भड़क गया और वे हंगामा करने लगे।

बालूघाट निवासी अशोक कुमार ने कहा कि एक बजे दोपहर से लाइन में खड़ा था। अचानक कहा गया कि अब दवा नहीं वितरण होगा। वहीं ब्रह्मापुरा की मीना देवी ने बताया कि वह साढ़े बारह बजे से ही लाइन में थी। एक बजे बताया गया कि दवा नहीं मिलेगी। हंगामा की सूचना मिलने के बाद सदर अस्पताल के प्रबंधक प्रवीण कुमार सुरक्षा बल के साथ पहुंचे और लोगों को शांत कराया।

प्रबंधक ने बताया कि सर्वर डाउन होने के बाद थोड़ी परेशानी हुई। सर्वर को ठीक कराने के बाद जितने लोग लाइन में थे, सबको दवा मिली। कोरोना निबंधन काउंटर पर उलझे लोग :

मिली जानकरी के मुताबिक सदर अस्पताल के कोरोना निबंधन काउंटर पर कच्ची-पक्की निवासी रमेश नामक व्यक्ति पहुंचा था। वहां निबंधन को लेकर डाटा आपरेटर से उसकी बहस होने लगी। देखते ही देखते वहां हंगामा हो गया। फिर सुरक्षा बल ने पहुंचकर हंगामा को शांत कराया। टीका लेने आए रमेश का आरोप था कि निबंधन में विलंब होने पर जब कारण पूछा तो डाटा आपरेटर ने अभद्र व्यवहार किया। इसकी शिकायत उसने अस्पताल उपाधीक्षक से की है। उपाधीक्षक डा.एनके चौधरी ने बताया कि प्रबंधक से जानकारी मांगी गई है। कोरोना निबंधन करने वाले डाटा आपरेटर को हिदायत दी गई है कि कोरोनारोधी टीका लेने आने वाले से सही व्यवहार किया जाए।

Edited By: Jagran