मुजफ्फरपुर, जेएनएन। मीनापुर के सरपंच खरहर निवासी रतन राय की हत्या करने पहुंचे बदमाशों में से दो को पुलिस ने सोमवार को धर दबोचा। गिरफ्तार बदमाशों के पास से आग्नेयास्त्र व कारतूस जब्त किया गया। दोनों की निशानदेही पर भागे बदमाशों की खोज में छापेमारी की जा रही है। गिरफ्तार किए जानेवालों में अहियापुर के रसलपुर सालीम निवासी प्रभु कुमार रतन व मीनापुर के हजरतपुर निवासी वृजनंदन दास शामिल हैैं। प्रभु के पास से एक देसी तमंचा, एक कारतूस और वृजनंदन के पास से दो कारतूस जब्त किया गया है।

  नगर पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार सिंह ने बताया कि गुप्त सूचना मिली कि हजरतपुर स्थित एक ईंट-भट्ठा चिमनी के पास कुछ बदमाश बड़ी आपराधिक घटना को अंजाम देने पहुंचे हैैं। सूचना पर तत्काल प्रशिक्षु आइपीएस, डीएसपी और थानाध्यक्ष के साथ संबंधित स्थान पर छापेमारी की गई। यहां से दो बदमाश दबोचे गए। जबकि दो अन्य भाग निकले। फरार बदमाश हजरतपुर निवासी दीपलाल सहनी और हथौड़ी के माधोपुर निवासी रामराजी सहनी की खोज की जा रही है। 

जेल में साजिश का रचा जाना गंभीर, शुरू हुई जांच 

सिटी एसपी ने साफ किया कि इस पूरे घटनाक्रम का सबसे गंभीर पहलू यह है कि इस बड़ी घटना की साजिश जेल में हुई। साजिश जेल में बंद सुजीत कुमार और नितेश कुमार उर्फ मित्ता ने की। पुलिस इस मामले की जांच कर रही है कि साजिश में इनसे कौन मिले थे। कारण यह कि गिरफ्तार बदमाशों ने स्वीकार किया है कि उन दोनों के ही इशारे पर घटना को अंजाम देने की साजिश की गई थी। 

मीनापुर में दर्ज हत्या समेत कई संगीन घटनाओं में मिले सुराग 

बताया कि मीनापुर में हत्या को लेकर दर्ज कांड संख्या 353/19 में भी गिरफ्तार बदमाशों से कई अहम सुराग मिले हैं। इस आधार पर पुलिस जांच कर रही है। इस हत्याकांड में यहां के सरपंच समेत 13 लोग नामजद किए गए थे। अब जो हकीकत सामने आई है, पुलिस उस आधार पर आगे की जांच कर रही है। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस