बेतिया (पचं), जासं। जिले में जहरीली शराब से मौत मामले में दो थानेदार व एक दारोगा पर कड़ी कार्रवाई की गई है। तीनों अगले 10 वर्षों तक थानेदारी नहीं कर सकेंगे। लौरिया के तत्कालीन थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक, दारोगा सह तत्कालीन प्रभारी थानेदार कृष्ण प्रसाद एवं नौतन के तत्कालीन थानाध्यक्ष मनीष कुमार शर्मा को किसी भी थाने या ओपी प्रभारी बनने के लिए अयोग्य करार दिया गया है। साथ ही तीनों तीनों के दो वर्ष तक वेतन वृद्धि पर भी रोक लगाई गई है। उक्त कार्रवाई एसपी उपेंद्रनाथ वर्मा ने की। हालांकि राजीव कुमार रजक व कृष्ण प्रसाद निलंबन मुक्त हो गए हैं। वहींमनीष कुमार शर्मा अभी भी निलंबित है। इस संबंध में एसपी ने डीएम को एक प्रतिवेदन सौंप दिया है।

बताया गया कि लौरिया थाना क्षेत्र के अलग- अगल गांवों में बीते 16, 17 व 18 जुलाई 2021 को जहरीली शराब से मौत मामले में तीन प्राथमिकियां दर्ज की गई थी। तत्कालीन थानाध्यक्ष राजीव कुमार रजक व तत्कालीन प्रभारी थानेदार कृष्ण प्रसाद के खिलाफ उच्चस्तरीय जांच हुई। जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है। इस मामले में पूरे थाने को लाइन हाजिर कर दिया गया था। वहीं नौतन में चार नवंबर 2021 व नौ मार्च 2022 को जहरीली शराब से मौत मामले में दर्ज प्राथमिकी के आधार पर शराब धंधेबाजों के खिलाफ कार्रवाई की गई। साथ ही तत्कालीन थानाध्यक्ष मनीष कुमार शर्मा को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर विभागीय कार्रवाई शुरू कर दी गई थी। वे अभी तक निलंबित चल रहे हैं। इन्हें भी 10 वर्षाें तक किसी थाने या ओपी का प्रभारी बनाए जाने से वंचित कर दिया गया है।

लौरिया में 16 व नौतन में 26 लोगों की हुई थी मौत

लौरिया थाना के देउरवा समेत अन्य गांवों में जुलाई 2021 में जहरीली शराब पीने से 16 लोगों की मौत हो गई थी। आधा दर्जन लोगों की आंख की रोशनी भी चली गई थी। नौतन थाना के तेलुआ गांव के ब्राह्मण टोली व महादलित बस्ती में नवंबर 2021 दीपावली के दिन जहरीली शराब पीने से 16 लोगों की जान चली गई थी। वहीं मार्च 2022 में दक्षिण तेलुआ गांव में भी जहरीली शराब पीने से 10 लोगों की मौत हुई थी।

शराब धंधबाजों के खिलाफ कार्रवाई

उक्त शराबकांड में चिन्हित शराब धंधेबाजों की गिरफ्तारी भी हो चुकी है। लौरिया शराबकांड में 16 व नौतन शराबकांड में आधा दर्जन धंधेबाजों को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है।

Edited By: Ajit Kumar