दरभंगा, जासं। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए किए जा रहे इंतजाम धरातल पर नाकाफी नजर आ रहे। लेकिन दरभंगा जंक्शन पहुंचे वाले स्पेशल ट्रेनें इन दावों की पोल खोल रही है। मुंबई, दिल्ली में जहां कोरोना संक्रमण से त्राहिमाम की स्थिति है। दरभंगा, मधुबनी, समस्तीपुर, सीतामढ़ी समेत अन्य जिलों के यात्री बिना कोरोना जांच के ही दरभंगा जंक्शन पहुंच रहे हैं। रास्ते में कहीं भी ट्रेन की बोगियों को सैनिटाइज नहीं किया जा रहा है। यात्री संक्रमण के बीच सफर करते हुए दरभंगा जंक्शन पहुंच रहे हैं। जंक्शन पर भी ट्रेनों की बोगियों को सैनिटाइज नहीं किया जाता है।

कोलकाता से मिथिलांचल एक्सप्रेस से पहुंचे यात्री जय नाथ चौधरी कहते हैं, मिथिलालंचल एक्सप्रेस से दरभंगा जंक्शन पहुंचा हूं, रास्ते में कही भी ट्रेन की बोगियों को सैनिटाइज नहीं किया गया है। पता नहीं संक्रमण के साथ घर जा रहा हूं या बिना संक्रमण के यह सवाल मन में कौंध रहा है। इसी तरह पवन एक्सप्रेस से पहुंचे वाले यात्री निर्मल शंकर मेहता कहते हैं, मुंबई में कोरोना संक्रमण से त्राहिमाम की स्थित है।लोग जैसे तैसे मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से ट्रेन पकड़ घर लौट रहे हैं। वहां कोरोना संक्रमण की जांच नहीं होती है, रास्ते में ट्रेन की बोगियों को कहीं भी सैनिटाइज नहीं किया गया है। जंक्शन पर भी सैनिटाजेशन की सुविधा नहीं है। हालांकि पूछताछ केंद्र के सामने एक निजी कंपनी पैसे लेकर यात्रियों के सामानों को सैनिटाइज करती है। लेकिन यह सुविधा यात्रियों के लिए माकूल नहीं है।

गोलमटोल जवाब देकर बच रहे रेल अधिकारी, जिला प्रशासन का इंतजाम नाकाफी

दरभंगा जंक्शन पर पहुंचे वाली स्पेशल ट्रेनों की बोगियों को सैनिटाइज करने को लेकर जब रेलवे के वरीय अधिकारियों से पूछा गया तो वे सीधे कुछ भी बोलने से इंकार कर गए। वहीं जिला प्रशासन के द्वारा दरभंगा जंक्शन पर दस कोरोना जांच काउंटर लगाए गए हैं। लेकिन ट्रेनों को सैनिटाइज्ड करने को लेकर किए गए इंतजाम नाकाफी दिख रहे हैं।

मुंबई से पहुंचे वाली ट्रेनों से प्रत्येक दिन मिल रहे कोरोना पॉजिटिव

मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से खुलने वाली पवन एक्सप्रेस और अतिरिक्त स्पेशल ट्रेन से पहुंचने वाले यात्रियों में प्रत्येक दिन लगभग औसतन 12 पॉजिटिव केस मिल रहे हैं। बता दें कि रेलवे और जिला प्रशासन की चूक के कारण 11 अप्रैल को मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल से पहुंची अतिरिक्त स्पेशल ट्रेन 01143 लाइन नहीं मिलने के कारण लहेरियासराय स्टेशन पर घंटेभर रुकी थी। इसी क्रम में लहेरियासराय स्टेशन पर दर्जनों यात्री बिना कोरोना जांच कराए ही ट्रेन से उतरकर अपने-अपने घरों की ओर जाते दिखे थे। जिसपर अब तक जिला प्रशासन और रेलवे की ओर से स्थिति स्पष्ट नहीं की गई है। लहेरियासराय स्टेशन स्थित दकानदार विवेक कामत कहते हैं, 13 अप्रैल की रात 9-10 के बीज मुंबई से पहुंची ट्रेन से दर्जनों यात्री बिना कोरोना जांच कराए घर की ओर जा रहे थे। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन यात्रियों में शामिल संक्रमित यात्री कितनों को संक्रमित कर चुके होंगे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप