मुजफ्फरपुर : शहर में सोमवार को चौतरफा ट्रैफिक जाम की समस्या बनी रही, मगर कोई देखने वाला नहीं है। पोस्ट पर तैनात जवान व पदाधिकारी डयूटी कर अपनी खानापूर्ति में लगे थे। निदान निकालने को लेकर कोई ठोस रणनीति नहीं तैयार की जा रही। नतीजा सोमवार को पूरे शहर में लोग जाम से जूझते रहते है। जबकि यातायात थाने में थानाध्यक्ष के उपर डीएसपी की भी तैनाती है। मगर शहर की ट्रैफिक व्यवस्था बेहतर करने को सोचते ही नहीं है। इससे ऐसा प्रतीत हो रहा कि ट्रैफिक जाम के सामने यातायात पुलिस पूरी तरह से नतमस्तक है। कई पुलिसकर्मी यह बोलने लगते हैं कि शहर के विभिन्न इलाकों में अतिक्रमण है। मगर वरीय अधिकारियों के स्तर से कोई कार्रवाई ही नहीं कराई जाती। नतीजा अतिक्रमण के कारण भी ट्रैफिक जाम की समस्या उत्पन्न हो जाती है। चौराहों पर आटो वाले लगाए रखते हैं। मगर ट्रैफिक पुलिस उसे हटाती नहीं है। नतीजा शहर के अघोरिया बाजार, कलमबाग, स्टेशन रोड, इमलीचटटी, जूरन छपरा, अखाड़ाघाट रोड, सरैयागंज टावर, भगवानपुर व जीरोमाइल समेत अन्य इलाकों में देर शाम तक जाम से लोग जूझते रहे। वहीं हाइवे पर कच्ची-पक्की, रामदयालू, चांदनी चौक, गोबरसही व जीरोमाइल समेत अन्य जगहों पर ट्रैफिक जाम में लोग फंसे रहे। इसके कारण यात्री वाहनों पर सवार लोग काफी परेशान थे।

तीन को महा टीका अभियान, तीन लाख को टीका देने का लक्ष्य

कोरोना टीकाकरण अभियान को तेजी लाने के लिए हर स्तर पर पहल की जा रही है। 3 अक्टूबर को जिले में एक बार फिर से एक दिवसीय महाअभियान चलाया जाएगा। सिविल सर्जन डा.विनय कुमार शर्मा ने बताया कि महाअभियान के तहत स्वास्थ्य विभाग 901 सत्र आयोजित करेगा। यहा पर लाभाíथयों को पहली व दूसरी डोज दी जाएगी। पहले व दूसरे डोज मिलाकर कुल तीन लाख लाभार्थी को डोज देने का लक्ष्य रखा गया है। कोवैक्सीन की दूसरी व कोविशील्ड की पहली व दूसरी डोज दी जाएगी। हर पंचायत व शहरी क्षेत्र में अधिक से अधिक केंद्र बनाया जाएगा। शहरी क्षेत्र में हर वार्ड में एक केंद्र बनाया जाएगा। इसके अलावा जहा लाभार्थी की संख्या अधिक होगी, वहा भी केंद्र बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोग कोरोना का टीका लें, इसकी पहल चल रही है।

Edited By: Jagran