मुजफ्फरपुर। जीआरपी ने नशाखुरान गिरोह के तीन बदमाशों को मीनापुर से गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार बदमाशों में मीनापुर थाना क्षेत्र के मौथहा गांव का अवधेश कुमार, मिथुन कुमार एवं मझौलिया का सोनू कुमार शामिल है। गिरोह के तीन अन्य की तलाश में छापेमारी जारी है। इनके पास से नशे की गोलिया, चोरी का मोबाइल व कपड़ा बरामद की गई है।

दुर्गापूजा, दीपावली और छठ पर्व के मौके पर नशाखुरान गिरोह ट्रेनों और रेलवे स्टेशनों पर सक्रिय हो गए हैं। सोनपुर, समस्तीपुर रेलमंडल सहित उत्तर बिहार के मुजफ्फरपुर सहित अन्य रेलवे स्टेशनों पर नशाखुरानों ने युवाओं को अपने गिरोह में शामिल किया है, जो यात्रियों को निशाना बना रहे हैं। 28 सितंबर को सरयू यमुना एक्सप्रेस ट्रेन से लुधियाना से कमाकर लौटे चार मजदूरों को जंक्शन के सर्कुलेटिग एरिया में कोल्ड ड्रिंक पिलाकर लूट लिया था। इसकी जानकारी मिलने के बाद रेल एसपी अशोक कुमार ने जीआरपी थानाध्यक्ष दिनेश कुमार साहु को नशाखुरानों की शीघ्र गिरफ्तारी का आदेश दिया। ये हुए थे नशाखुरानी के शिकार

हथौड़ी थाना के हरपुर गांव निवासी सुनील कुमार, सीतामढ़ी रुन्नीसैदपुर थाना क्षेत्र के फेकन व रमेश कुमार तथा मीनापुर थाना के किशोर कुमार को नशाखुरानों ने अपना शिकार बनाया था। मामले में सुनील कुमार के बयान पर जीआरपी में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। नशाखुरानी गिरोह का अपना-अपना इलाका

नशाखुरानी गिरोह ने अपना इलाका बांट लिया है। मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज रेलखंड पर मोतिहारी के समीप ट्रेन में सफर कर रहे गौरव त्रिपाठी को 21 जुलाई को नशा खिलाकर लूट लिया था। भागलपुर रेल क्षेत्र में ट्रेन से गौरव त्रिपाठी को उतारा गया। छानबीन में बात सामने आई थी कि, मुजफ्फरपुर-नरकटियागंज रेलखंड क्षेत्र में तोता गिरोह द्वारा नशाखुरानी का कार्य किया जा रहा। जमालपुर रेल पुलिस द्वारा इसका पर्दाफाश भी किया था। कई सदस्य जेल जाने के बाद बाहर आकर फिर से इस धंधे लग गए हैं। मुजफ्फरपुर रेल एसपी अशोक कुमार ने गौरव त्रिपाठी वाले मामले में शीघ्र उद्भेदन का दावा किया है। मुजफ्फरपुर मीनापुर से पकड़े गए तीनों से पूछताछ से पता चला कि, इसका एक सरगना पूर्वी चंपारण का रहने वाला है। पता लगाया जा रहा है कि कहीं तोता गिरोह से तो इसका कनेक्शन नहीं।

Edited By: Jagran