मुज़फ़्फ़रपुर,जेएनएन। बेखौफ चोरों ने पुलिस गश्ती को धता बताते हुए आरडीएस कॉलेज स्थित सेंट्रल बैंक की शाखा से चोरी का प्रयास किया। शनिवार और रविवार को शाखा बंद थी। इसी दौरान रात को चोर शौचालय के रास्ते रोशनदान और दरवाजा का हैंडिल काटकर दफ्तर में घुसे। गैस कटर से क्वेस्क मशीन (पासबुक अपडेट करने वाली) को एटीएम समझकर काट दिया। इसमें राशि नहीं मिली तो करेंसी चेस्ट का गेट काटने का प्रयास किया, लेकिन असफल रहे। गेट पर हल्का काटने का निशान मिला। इसके बाद चोर उसी रास्ते से भाग गए।

 सोमवार को सुबह बैंक खुलने के बाद पहुंची शाखा प्रबंधक ज्योति मिश्रा भीतर का दृश्य देखकर दंग रह गईं। उन्होंने बैंक के अन्य कर्मियों को कॉल कर बताया और काजीमोहम्मदपुर थानाध्यक्ष को सूचना दी गई। थानाध्यक्ष मो. शुजाउद्दीन, दारोगा एसके झा व एएसआइ अजीत कुमार वर्मा के साथ मौके पहुंचे और छानबीन की।

 थानाध्यक्ष ने बताया कि शौचालय का रोशनदान मजबूत कराने के लिए उन्होंने पहले ही बैंक प्रबंधन को अवगत कराया था। घटना की जांच शुरू कर दी गई है। सेंट्रल बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक सुनील कुमार भी घटना की सूचना मिलने पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि कैश चोरी नहीं हुआ है। चेस्ट का गेट क्षतिग्रस्त हुआ है। इसे दुरुस्त कराया जाएगा। 

सीसी कैमरा और सायरन का काट दिया तार

चोरों ने पूर्व से ही बैंक की रेकी कर रखी थी। उसे पता था कि सीसी कैमरा की डिवाइस व सायरन कहां पर है। इसलिए घुसने के साथ ही इसका तार काट दिया था। शाखा प्रबंधक के कक्ष में घुसकर  दराज भी खोलकर देखा। वहां कुछ नहीं मिला। दफ्तर के चप्पे-चप्पे को चोरों ने खंगाला, लेकिन सफलता हासिल नहीं हुई। मेनगेट पर कुर्सी लगाकर भाग गए। बताया गया कि कुछ साल पूर्व भी बैंक में ग्रिल काटकर चोरी का प्रयास किया गया था। उस दौरान भी चोर असफल रहे थे।

बिना सुरक्षा गार्ड के बैंक

बैंक में सुरक्षा गार्ड नहीं है। पूछने पर बैंक अधिकारियों ने बताया कि सेंट्रल बैंक की इक्का-दुक्का शाखा में गार्ड की तैनाती की गई है। इस बार की घटना के बाद आगे इस पर विचार किया जाएगा।

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप