मुजफ्फरपुर, जेएनएन। जिले के एईएस प्रभावित प्रखंडों के गरीबों को राशन, आवास व मुफ्त इलाज की सुविधा सुनिश्चित की जाएगी। जिला स्तर पर यह जवाबदेही जीविका को दी गई थी। जीविका की ओर से 553 परिवारों का आॢथक, सामाजिक सर्वेक्षण किया गया है। सर्वेक्षण के आधार पर विभागवार लाभ उन परिवारों को दिया जाएगा। इस वर्ष के शुरुआती दौर से ही सारी तैयारी चल रही थी। लेकिन अचानक कोरोना का कहर आ जाने से गतिविधि ठहर-सी गई है। हालांकि एक बार फिर सारी प्रक्रिया को धीरे-धीरे गति मिल रही है।

इन प्रखंड को माना हाईरिस्क जोन

एईएस से सवाॢधक प्रभावित कांटी, मीनापुर, मोतीपुर, मुशहरी व बोचहां हैं। इन प्रखंडों में 553 में से 226 परिवार आवास विहीन हैं। 92 परिवार ऐसे है मिले जिन्होंने पूर्व में इंदिरा आवास आवंटित किया गया लेकिन वे किसी कारण से इंदिरा आवास नहीं बना पाए या बना लिया तो अब क्षतिग्रस्त हो गया है। इसके साथ सारे परिवार को आवास देने की कवायद प्रशासन की ओर से चल रही है।

इन परिवारों में से 138 बच्चे स्कूल से बाहर थे। उनका नामांकन कराया गया है। 14 परिवारों के पास राशन कार्ड नहीं थे। उनमें से पात्र परिवार के बीच राशन कार्ड उपलब्ध कराया जा रहा है। इसके साथ ही उन परिवारों के घर तक बिजली का कनेक्शन भी पहुंचा है।

सिविल सर्जन डॉ. एसपी सिंह ने कहा कि एईएस की रोकथाम के लिए जिलाधिकारी के नेतृत्व मेें सभी विभाग सामूहिक पहल कर रहे हैं। सर्वाधिक प्रभावित प्रखंडों में शत-प्रतिशत जेई टीकाकरण के साथ अन्य स्वास्थ्य कार्यक्रमों का लाभ पहुंचाया जा रहा है। आम लोगों से अपील है कि अपने बच्चे को खाली पेट न सोने दें। अगर तेज बुखार व चमकी हो तो सीधे सरकारी अस्पताल लेकर आएं। ओझा के चक्कर में नहीं पड़ें।  

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस