मुजफ्फरपुर, जेएनएन। शिवहर में जनता दल राष्ट्रवादी के प्रत्याशी श्रीनारायण सिंह और उनके अंगरक्षक संतोष कुमार की हत्या बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की पहली बड़ी हिंसा है। इसने जहां एक ओर शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव कराने के आयोग के दावे पर सवालिया निशान लगा दिया है वहीं पहली बार अपनी किस्मत आजमा रहे प्रत्याशियों का विश्वास भी हिला दिया है। इसी क्रम में शिवहर की घटना से आहत होकर द प्लुरल्स की सीएम प्रत्याशी पुष्पम प्रिया ने राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग कर डाली। उन्होंने वर्तमान नीतीश सरकार की विश्वसनीयता पर सवाल उठाते हुए कहा कि उनके रहते शांतिपूर्ण व निष्पक्ष चुनाव करा पाना संभव नहीं है। उन्होंने कहा कि जंगलराज-एक का खात्मा राष्ट्रपति शासन के दौरान ही हुए चुनाव के बाद हुआ था। इसलिए जंगलराज-2 का खात्मा भी राष्ट्रपति शासन में चुनाव होने के बाद ही संभव है।

पुष्पम ने आरोप लगाया कि उनकी पार्टी के बहुत से प्रत्याशियों को धमकाकर चुनाव से पहले ही मैदान छोड़ने को विवश किया जा रहा है। हाल में सुरसंड के एक प्रत्याशी ने नामांकन करने के बाद अपना नाम वापस कर लिया। उनका कहना है कि ऐसे और मामले हैं जहां सत्ता का दुरुपयोग किया जा रहा है। ऐसे में राष्ट्रपति शासन ही बेहतर विकल्प है। जिसमें निष्पक्ष चुनाव कराया जा सकता है। उन्होंने अपने टि़्वटर अकाउंट से यह मांग रखी है। पुष्पम और उनकी पार्टी पहली चुनावी राजनीति के मैदान में आई है। उनकी राजनीति परंपरागत राजनीति से एकदम अलग है।  

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021