मुजफ्फरपुर। जिले में बुधवार को 90 नए कोरोना पॉजिटिव केस मिले हैं। वहीं 146 मरीजों ने कोरोना से जंग जीतकर घर को लौट गए। इधर देर शाम एसकेएमसीएच पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत औरं सचिव लोकेश कुमार सिंह ने निरीक्षण किया। इसके बाद वहां का फीड बैक लिया। उन्होंने कहा कि पीकू वार्ड में अब कोरोना मरीज भर्ती होंगे। वहां पर चल रहे बच्चों का इलाज पुराने भवन में होगा। उनके आदेश के बाद नई जगह पर इलाज व्यवस्था की कवायद शुरू हो गई।

कोरोना वार्ड की सफाई पर दिखे खिन्न

कोरोना वार्ड की सफाई व्यवस्था पर प्रधान सचिव पर खिन्न दिखे। उन्होंने कहा कि जो मरीज आए उसको तुरंत भर्ती किया गया। भर्ती के लिए सिफारिश का इंतजार नहीं करना पड़े। शौचालय, बिजली व पानी की व्यवस्था को दुरुस्त करने पर बल दिया। इसके साथ ही जिलाधिकारी को पीकू में शीघ्र कोरोना वार्ड शुरू कराने और पीकू वार्ड को पुराने भवन में ले जाने में सहयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि इलाज में परेशानी नहीं हो इसका पूरा ख्याल रखा जाए। अतिरिक्त बेड की आवश्यकता होगी तो उसी परिसर में बने अतिथिशाला में भी 60 बेड उपलब्ध है। वहां ऑक्सीजन पाइप लाइन की व्यवस्था सुनिश्चित करते हुए इसे भी कार्ययोजना में शामिल करें। एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ.सुनील कुमार शाही ने कहा कि एक सप्ताह के अंदर सारी व्यवस्था हो जाएगी। इधर चिकित्सकों ने कहा कि पीकू वार्ड व एनआइसी एक जगह पर रहने से अभी इलाज आसानी है। शिशु विभाग में चिकित्सकों की संख्या कम होने से पुराने भवन में पीकू व नए बने मातृ-शिशु सदन में एनआइसी रहने में इलाज व्यवस्था संभालने में परेशानी होगी। इसलिए दोनों को एक जगह रहना चाहिए।

जहां मिलेंगे चार मरीज वहां कंटेनमेंट जोन

सिविल सर्जन डॉ.एसपी सिंह ने कहा कि जहां पर दो से चार के बीच मरीज मिलेंगे वहां पर कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। इसके लिए सभी पीएचसी प्रभारी को कहा गया है। पहले से जो कंटेंनमेंट जोन बने हैं वहां पर नमूना संग्रह अभियान तेज किया जाएगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस