मुजफ्फरपुर : कोविड टीकाकरण से वंचित बच्चों का शहर के 49 वार्डों में शिक्षक सर्वे करेंगे। टीका से वंचित बच्चों को सेंटर पर ले जाकर कोविड का टीका दिलाया जाएगा। मंगलवार को जिला स्कूल में डीईओ अब्दुस सलाम अंसारी की अध्यक्षता में शहरी क्षेत्र के सभी हाईस्कूल के प्राचार्य एवं उनके प्रतिनिधियों के साथ बैठक हुई। बैठक में डीईओ के अलावा डीपीओ अमरेंद्र कुमार पांडेय, जिला स्कूल के प्रधानाध्यापक रूपक कुमार, मारवाड़ी हाईस्कूल के प्रधानाध्यापक आनंद कुमार द्विवेदी सहित सभी प्रधानाध्यापक एवं उनके प्रतिनिधि शामिल हुए। डीईओ ने कहा कि किसी भी हाल में बच्चे छूटे नहीं। उन्होंने कहा कि 15 से 18 साल तक के बच्चों को टीके लगवाने के लिए प्रत्येक विद्यालय में एक नोडल शिक्षक बनाए गए हैं। अब सभी वार्ड में एक-एक नोडल शिक्षक इस पर काम करेंगे। प्रधानाध्यापक को इस कार्य का जिम्मा दिया गया है ताकि शत-प्रतिशत टीकाकरण सफल हो सके।

बच्चे स्कूल क्यों नहीं आते इसपर भी हुई चर्चा

बच्चे स्कूल क्यों नहीं आते पर भी सभी प्रधानाध्यापक और अधिकारियों से राय ली गई। कुछ प्रधानाध्यापक ने विषयवार शिक्षकों की कमी बताया तो किसी ने पढ़ाई नहीं होने की बात कही। इसपर निष्कर्ष निकल कर नहीं आया कि सभी स्कूलों में विषय वार शिक्षकों की प्रतिनियुक्ति होगी। बात यह हुई कि शिक्षक पढाएंगे तो बच्चे स्कूल जरूर आएंगे और कक्षा भरा हुआ रहेगा। शिक्षक पढ़ाने के बदले गप्पे मारते रहते हैं। बच्चे कक्षा में जब शिक्षक को नहीं पाते हैं तो वे स्कूल से बाहर या तो कहीं घूमने निकल जाते या घर चले जाते हैं। शिक्षा अधिकारियों ने स्कूल खुलने के बाद इस पर विशेष ध्यान देने को कहा।

Edited By: Jagran