मुजफ्फरपुर। सकरा थाना क्षेत्र के बोअरिया गाव के पास पोखर में आदित्य कुमार (08) का शव मिलने से गाव में कोहराम मच गया था। वह 23 फरवरी, 2020 को कुम्हरापाकड़ मीरापुर में उर्स का मेला देखने गया था। उसकी हत्या की गई थी। स्वजनों ने हत्या के आरोपित के घर में मृतक की मूर्ति लगाई है।

घटना के बाद पुलिस ने आरोपित चंदन कुमार व विक्की को गिरफतार कर जेल भेज दिया था। वहीं हत्या से आक्रोशित लोगों ने चंदन के घर के सामने परिसर में ईंट का स्मारक बनाकर मृतक की मूर्ति लगा दी है। चंदन के घर पर उसकी वृद्ध दादी को छोड़कर सभी फरार हैं।

फुटेज में देखने के बाद हुआ था हत्या का पर्दाफाश : पुलिस और ग्रामीणों ने कुम्हरापाकड़ मीरापुरशरीफ शहीदे मिल्लत के मजार पर सीसी कैमरे के फुटेज को देखा तो हत्यारा चंदन कुमार उसे गोलगप्पा व आइसक्रीम खिलाकर उसे साइकिल से ले जा रहा था और शाम में अकेले ही लौट रहा था। पुलिस और ग्रामीणों ने जब उससे पूछा तो उसने आदित्य को बोआरिया पोखर में डुबोकर मार देने की बात कबूल की थी।

गले में पहने हुनुमानी लाकेट के लिए की थी हत्या : चंदन कुमार ने पुलिस के समक्ष कबूल किया था कि वह जुआ में रुपये हार गया था। इस पर उसने आदित्य के गले से हनुमानजी का सोना का लाकेट ले लिया और उसे ग्रामीण विक्की के जहागीरपुर में सोनार के यहा 1200 रुपये में बेच दिया था। वहीं गिरफ्तार विक्की ने बताया था कि जुआ के दौरान मुझसे डेढ़ सौ रुपये उधार लिया था। मुझे बहन का लाकेट बताकर बेच कर रुपये देने की बात कहकर मुरौल जहागीरपुर में सोनार के पास ले गया था।

एकलौता पुत्र था आदित्य : मुरौल गाव निवासी राजेश राय का आदित्य एकलौता पुत्र था। पोस्टमार्टम के बाद शव आने पर ग्रामीणों ने मुरौल चौक पर घटना के विरोध में सड़क जाम किया था। उसका दाह-संस्कार मुरौल घाट पर कर किया गया था।

घर पर पुलिस के साथ हत्यारोपित के पहुंचने पर ग्रामीणों ने किया था हमला : सकरा थाना पुलिस के साथ हत्या आरोपित के पहुंचने पर ग्रामीणों ने हमला कर पुलिस को खदेड़ दिया था। पुलिस व उसके स्वजनों ने किसी तरह अपनी जान बचाई थी।

Edited By: Jagran