मुजफ्फरपुर : बिहार राज्य विश्वविद्यालय एवं महाविद्यालय कर्मचारी महासंघ, पटना के आह्वान पर बीआरए बिहार विश्वविद्यालय में कर्मचारियों ने कुलपति का घेराव कर विश्वविद्यालय मुख्यालय में तालाबंदी कर कामकाज ठप कर दिया। मुजफ्फरपुर, वैशाली सहित अन्य सभी अंगीभूत महाविद्यालय के शिक्षकेत्तर कर्मचारी, दैनिक वेतनभोगी, संविदा कर्मी एवं व्यावसायिक पाठ्यक्रम के कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर हैं। इनलोगों ने विश्वविद्यालय मुख्यालय में कुलपति का घेराव किया और विश्वविद्यालय यूनियन से सहयोग लेकर विश्वविद्यालय को बंद कराया। कर्मचारियों के आंदोलन के कारण सभी अंगीभूत महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय मुख्यालय में ताला लटका रहा। इस कारण मंगलवार को किसी भी प्रकार का कार्य नहीं हो पाया। कर्मचारियों में बिहार सरकार एवं विश्वविद्यालय प्रशासन के प्रति रोष व्याप्त है। बुधवार को को भी सभी महाविद्यालय के कर्मचारी सामूहिक अवकाश पर रहते हुए विश्वविद्यालय में घेराव करेंगे। धरना एवं घेराव में कर्मचारियों ने सरकार के एसओपी का पूर्णत: पालन कर रहा है। विश्वविद्यालय प्रशासन एवं बिहार सरकार द्वारा अगर कर्मचारियों की मांग नहीं मानी जाती है तो कर्मचारी लंबे आंदोलन करने को मजबूर होंगे। आज के आंदोलन में मुजफ्फरपुर एवं हाजीपुर के शिक्षकेत्तर कर्मियों ने हिस्सा लिया। इसके अलावा मुजफ्फरपुर, बेतिया, मोतिहारी एवं सीतामढ़ी के कर्मचारी भी भाग लेंगे। आंदोलन का नेतृत्व प्रक्षेत्रीय मंत्री राजीव रंजन एवं प्रक्षेत्रीय अध्यक्ष इंद्र कुमार दास ने किया। आंदोलन में उपेंद्र प्रसाद सिंह, राजीव कुमार, निशांत शेख, कार्तिक पुन्नेदु, उमाशंकर सिंह, वेदनाथ सिंह, संजय कुमार, विनोद कुमार झा, उज्जवल कुमार, मुकेश कुमार, सुबोध कुमार, जय कुमार, संजीव कुमार, अजय कुमार, सुरेंद्र प्रसाद मेहता एवं मीडिया प्रभारी अमूल्य कुमार शामिल थे। वहीं, विश्वविद्यालय कर्मचारी संघ के सचिव गौरव, रामकुमार, अजय कुमार आदि ने सहयोग किया। महाविद्यालय व्यावसायिक संघ के कर्मचारियों ने भी आंदोलन में सहभागिता निभाई।

Edited By: Jagran