मुजफ्फरपुर। विशेष पुलिस टीम ने एसएसपी विवेक कुमार के निर्देश पर मिठनपुरा और अहियापुर इलाके में छापेमारी कर अंतरराज्यीय लुटेरा गिरोह के सात अपराधियों को धर दबोचा। इनके पास से भारी मात्रा में हथियार, गोली, लग्जरी कार, कंप्यूटर, लैपटॉप, प्रिंटर, सरसों तेल व पेन ड्राइव आदि बरामद किए गए हैं। पता चला है कि चोरी व लूट के सामान को मिठनपुरा सैफ सुहानी गली से दबोचे गए स्कूल संचालक राकेश शर्मा के यहां ठिकाना लगाया जाता था। चोरी व लूट के सामान को बेचकर कैश का बंटवारा होता था। इसका जिम्मा भी स्कूल संचालक पर था। बरामद सामान उसी के संस्थान से जब्त किया गया। उक्त जानकारी रविवार को एसएसपी ने पुलिस ऑफिस में आयोजित प्रेसवार्ता में दी।

अपराधियों में वैशाली लालगंज का शंकर कुमार, भगवानपुर का राजू कुमार व सोनू कुमार, पश्चिम बंगाल जिला मालदा, चाचल का शेख इकरामुल, बेनीपट्टी धनौजा थाना का स्कूल संचालक राकेश शर्मा, अहियापुर महमदपुर का सुबोध कुमार और प्रशांत कुमार हैं। बंगाल के अपराधी मिठनपुरा में किराए के कमरे में रहकर वारदात को अंजाम देते थे।

एसएसपी ने बताया कि सूचना मिली थी कि मिठनपुरा इलाके में आपराधिक वारदात को अंजाम देने की साजिश रची जा रही। सिटी एसपी उपेंद्रनाथ वर्मा व नगर डीएसपी आशीष आनंद के नेतृत्व में टीम का गठन कर छापेमारी की गई। मिठनपुरा रेलवे लाइन के समीप से सभी को हथियार के साथ दबोचा गया। हालांकि, सरगना मो. मिराज भागने में सफल रहा। गिरफ्तार आरोपितों की निशानदेही पर स्कूल संचालक राकेश शर्मा को गिरफ्तार किया गया।

मिठनपुरा से गिरफ्तार अपराधी पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ था। हाल के दिनों में लगातार शहरी क्षेत्र में कई जगहों पर चोरी, छिनतई और लूट की घटना को अंजाम दे चुका है। नीम चौक और अघोरिया बाजार इलाके में किराए पर लॉज में कमरा लेकर रहता था। घटना के बाद मामला ठंडा होने के बाद स्कूल में ही सामान और रुपये का बंटवारा होता।

By Jagran