मुजफ्फरपुर, जेएनएन। Seeing the mental condition messed up of groom the bride side refused to be farewell गाजे-बाजे के साथ बारातियों का स्‍वागत किया गया। रीति-रिवाज से निकाह कराया गया। पर निकाह के तुरंत बाद ही दूल्‍हे ने अापा खो दिया। दूल्‍हे की मानसिक स्थिति ठीक नहीं देख दुल्‍हन पक्ष ने विदागरी कराने के इंकार कर दिया। कहासुनी के बीच दोनों पक्षों में झड़प हो गई। तो दूल्‍हा समेत बरातियों को बंधक बना लिया गया। घटना मुजफ्फरपुर के मनियारी थाना क्षेत्र के एक गांव की है। 

बताया जा रहा है कि  गुरुवार की रात लदौरा से मो. हन्नान के पुत्र नूर आलम की बरात मनियारी थाना क्षेत्र के एक गांव में आई थी। जहां मुस्लिम रीति-रिवाज से निकाह कराया गया। निकाह के तुरंत बाद ही दुल्हे पक्ष के लोग जल्दी लड़की विदाई की मांग करने लगे। कहासुनी के बीच दोनों पक्ष विदाई को लेकर आपस में भिड़ गए। दूल्हे की मानसिक स्थिति ठीक नहीं देख दुल्हन पक्ष ने शादी के बाद भी विदागरी से इंकार कर दिया। 

दूल्‍हे ने खोया आपा, दे दी हत्‍या की धमकी

 मामला उलझते देख दूल्हा नूर आलम ने आपा खो दिया व दुल्हन पक्ष को बिना दहेज शादी की बात कहते हुए खड़ीखोटी सुनाई। साथ ही मारपीट पर उतारू हो गया। इतना ही नहीं, आवेश में आकर विदाई के एक महीने के अंदर दुल्हन की हत्या की धमकी भी दे डाली। इतना सुनते ही ग्रामीणों ने बरातियों को बंधक बना लिया। इस दौरान दूल्हा समेत तीन-चार लोगों से दुर्व्‍यवहार भी किया। वह अनाप-शनाप बोलने लगा जिससे उसकी मानसिक स्थिति गड़बड़ी दिखी।

उपहार कराया वापस

 सूचना पर पहुंचे समाजसेवी युवा प्रमोद कुमार सहनी ने दोनों पक्षों को समझाते हुए वर पक्ष ये उपहार स्वरूप मिले फर्नीचर समेत अन्य सामान शुक्रवार की सुबह वापस कराया। साथ ही दोनों पक्षों से सहमति पत्र बनाकर मामले को सामाजिक स्तर से सुलझा लिया। उधर, मनियारी पुलिस ने इस मामले में अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि अबतक कोई आवेदन प्राप्त नहीं हुआ है। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस