पूसारोड, (समस्तीपुर), जासं। अन्नू हत्याकांड के बाद से पूसा प्रखंड प्रमुख के रेपुरा आवास का सूनापन बढ़ता ही जा रहा है। इस घटना के कारण रेपुरा सहित आसपास के गांव में भी मातमी सन्नाटा पसरा है। लोगों में दहशत है। आंखे सूनी लेकिन जबान बंद है। कोई कुछ कहने ,बोलने से परहेज कर रहे हैं। सड़कों पर फर्राटे भरने वाली गाडिय़ां भी नजर नहीं आ रहीं। यदा-कदा पुलिस की गश्त लगाती हुई गाडी़ सन्नाटे को तोड़ती है। दरवाजे पर या घरों में सिमटे लोग इस घटना पर चुप्पी साध चुके हैं। कुरेदने के बाद आधी अधुरी फुसफुसाहट का सारांश यही कि यह अमानत में खयानत है। जिस पर अपने होने का विश्वास था,वही बागी बन गया, बिना कुछ बोले सीधे पिस्टल निकाल कर गोलियों से भून डाला।

 कई सवाल भी लोगों के जेहन में है। अब जबकि पंचायतीराज के त्रिस्तरीय चुनाव होने वाले हैं, उससे ठीक पहले प्रखंड प्रमुख रविता तिवारी के बाहुबली पति की हत्या हो जाती है। क्या अन्नू की गोली मार कर हत्या करने वाले के साथ कोई निजी अदावत थी या मारने वाला सिर्फ शूटर था? क्या किसी ने उसे अन्नू के हत्या की सुपारी दी? कई ऐसे सवाल हैं। जिसकी सच्चाई लाने की जिम्मेवारी पुलिस की होगी। सवाल सब्जी मंडी को लेकर भी लोगों के मन में है। समय के हिसाब से जनजीवन के सामान्य होने में समय लगेगा, ऐसा लोग मान रहे हैं।

हत्याकांड के दूसरे दिन भी खाली हाथ रही पुलिस

अन्नू तिवारी हत्याकांड के दूसरे दिन भी पुलिस के हाथ खाली रह गए। न हत्यारा पकड़ में आया। न वह बाइक पुलिस को मिली जिस पर घटना को अंजाम देने के बाद बदमाश भाग निकलने में कामयाब रहा। न वह पिस्टल बरामद हुआ जिससे निकली गोलियों ने अन्नू का काम तमाम कर दिया। समाचार लिखे जाने तक प्राथमिकी दर्ज नहीं हो पाई है। वैनी ओपी अध्यक्ष नंदकिशोर यादव ने बताया कि अभी तक प्राथमिकी के लिए आवेदन नहीं मिला है। आवेदन प्राप्त होते ही प्राथमिकी दर्ज कर ली जाएगी। पुलिस घटना को लेकर चौकस है। पुलिस की टीम छापेमारी कर रही है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप