मुजफ्फरपुर, जेएनएन। स्वर्ण व्यवसायी प्रभात कुमार हत्याकांड में पुलिस की शिथिल कार्यशैली के खिलाफ नाराज लोगों ने शनिवार को जमकर बवाल काटा। मामले में आरोपित लोगों की गिरफ्तारी नहीं होने को लेकर लोगों ने सकरा थाना को घेर लिया। थाने के बाहर जमकर हंगामा व प्रदर्शन करने लगे। लगातार हो रही आपराधिक घटनाओं को लेकर एएसपी पूर्वी अमृतेश कुमार के समक्ष थानाध्यक्ष राजेश कुमार के खिलाफ कई गंभीर आरोप लगाए। कहा कि थानाध्यक्ष की क्षेत्र में पकड़ नहीं है। वे निर्दोष लोगों पर अत्याचार करते हैं।

थाना परिसर में घुसकर की नारेबाजी

 प्रदर्शनकारी थाना परिसर में नारेबाजी करते रहे। इस बीच सुरक्षात्मक लिहाज से मनियारी, पियर समेत कई थानों की पुलिस को बुलाया गया। काफी संख्या में जवानों की तैनाती की गई। एएसपी ने समझाकर सभी को शांत कराया। त्वरित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया। इसके बाद प्रदर्शनकारी लौटे।

तीन दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ

बता दें कि पिछले पाचं दिसंबर को सुजावलपुर चौक के आभूषण व्यवसायी प्रभात कुमार की हत्या गोली मार कर दी गई थी। घटना के तीन दिन बाद भी पुलिस खाली हाथ है।

दो संदिग्धों से चल रही पूछताछ

पुलिस ने घटना के बाद कई जगहों पर ताबड़तोड़ छापेमारी कर दो संदिग्धों को हिरासत में लिया है। दोनों से पूछताछ कर अन्य आरोपितों का सुराग खोजा जा रहा है। वहीं नामजद प्राथमिकी होने के बाद दोनों आरोपित भाई भी इलाके से फरार बताए गए हैं। उसके परिजनों पर पुलिस दबिश बना रही है।  मुजफ्फरपुर के एसएसपी जयंत कांत ने कहा कि हत्याकांड में प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। पुलिस कानूनी प्रक्रिया के तहत कार्रवाई कर रही है। हर हाल में दोषी के खिलाफ कार्रवाई होगी। निर्दोष लोगों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी। कानून हाथ में लेनेवाला हर व्यक्ति कार्रवाई के दायरे में है। लोगों को संयमित रहना चाहिए।

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस