मुजफ्फरपुर। कुढ़नी प्रखंड के नून नदी के तट पर स्थित पंचायत भवन में सोमवार को छाजन हरिशकर पश्चिमी पंचायत के ग्रामीणों की चौपाल लगी जिसमें लोगों ने पंचायत में हुए विकास कायरें एवं बचे कायरें को गिनाया। ग्रामीणों एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों ने विकास कार्यो को गति देने के लिए मुखिया की प्रशसा की। साथ ही बचे कार्यो को शीघ्र करने की नसीहत मुखिया को दी। पंचायत की सबसे बड़ी समस्या यह बताया गया कि यहा वृद्धापेंशन के 65 वैसे लाभुक है जिन्हें विगत दो वषरें से पेंशन का भुगतान नहीं हो रहा है। अधिकारी भुगतान से वंचित वृद्धा पेंशन के लाभुकों को नए सिरे से आवेदन देने का सुझाव दे रहे हैं, लेकिन पेंशनधारी मानने को तैयार नहीं हैं। उनका तर्क है कि विगत दो वषरें की पेंशन राशि आखिर कहा गई है। इसी तरह किसानों के बोरिंग तक तार पोल नहीं जाने से सिंचाई बड़ी समस्या बनी हुई है। तीसरी बड़ी समस्या यह है कि पंचायत भवन में कमरे की कमी होने से पंचायत का प्रशासनिक कार्य बाधित हो रहा है। कहने के लिए पंचायत भवन में आरटीपीएस काउंटर खोल दिया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि यहा केवल जन्म एवं मृत्यु प्रमाण पत्र ही बनाए जाते हैं। जाति ,आवासीय समेत अन्य प्रमाण पत्रों के लिए अंचल कार्यालय जाना ही पड़ता है। यहा विभिन्न वाडरें में 6 नल जल की योजना चल रही है जिसमें पाच योजना पूर्ण हो चुकी है। उससे पानी की आपूर्ति नियमित हो रही है। इसका लाभ 600 परिवारों को मिल रहा है। ग्रामीणों का आरोप था कि इस पंचायत में 50 फीसद शौचालय का निर्माण हुआ है। 10 फीसद को अनुदान की राशि अभी मिलना बाकी है। छाजन पुस्कालय से गोनू सड़क, मुख्य सड़क से महेंद्र दास के घर,पंचायत भवन से कोठीपुल, एतवार हाट से मिर्गशहर,नया हाट से छाजन संग्राम, पशरवड़ा से बड़ी पाकड़, हरि राय टोला शिव मंदिर से खरियार,हरि राय टोला से दिलीप झा के घर तक सड़क का पीसीसी करना बहुत जरूरी है। इसी तरह ग्रामीण बैंक छाजन गोनू से मुस्लिम टोला,एवं बैंक से बच्चू सिंह के घर तक की सड़क जर्जर है। इसपर पीसीसी जरूरी है। वर्षा के मौसम में जलजमाव हो जाता है। इससे निजात दिलाने के लिए नाला निर्माण बहुत ही जरूरी है। बता दें कि इस पंचायत को नून नदी दो भागों में बाटती है। नदी के पूरब एवं पश्चिम यह पंचायत फैली है। जहा पंचायत भवन का निर्माण कराया गया है, वह जमीन नून नदी की सरकारी जमीन है। जिसमें पूर्व शिक्षक स्वर्गीय महेश्वर भगत ने निजी राशि से मिट्टी भरवा कर पंचायत को सुपुर्द किया था। उस परिसर में स्वर्गीय भगत की प्रतिमा लगी हुई है। छाजन गोनू में हल्का राजस्व कार्यालय है लेकिन उसका अपना भवन नहीं है। यहा मनरेगा भवन का अभाव है। पंचायत में कुल सात आगनबाड़ी केंद्र संचालित है लेकिन 6 आगनबाड़ी केंद्रों के पास अपना भवन नहीं ंहै। निजी भवन में केंद्र संचालित हो रहे है। छाजन बापू वाचनालय(पुस्तकालय)को जीर्णोद्धार करने की जरूत है। इसमें रखे किताबों में दीमक लग गए हैं। बतादे की इस पुस्कालय में पूर्व मुख्यमंत्री रामसुंदर दास एवं जन नायक कर्पूरी ठाकुर आया करते थे।

उपलब्ध संसाधन में करा रहे क्षेत्र का विकास

मुखिया श्यामनंदन कुशवाहा ने कहा कि उपलब्ध संसाधन से विकास कार्य कराया गया है। बचे कार्यो को शीघ्र कराया जाएगा। नल जल की योजनाओं से छह सौ परिवारों के घरों में पानी की आपूर्ति की जा रही है। जिन 65 लाभुकों को वृद्धा पेंशन के भुगतान में पेंच फंसा है ,उसे दूर करने के लिए डीएम को ज्ञापन दिया गया है। शौचालय अनुदान की राशि भुगतान की कवायद चल रही है। पोखर का सौंदर्यीकरण कराया जाएगा। मेरी नजर में पक्ष--विपक्ष दोनों समान है।

पंचायत एक नजर

वार्ड---11

जनसंख्या---10,000

मतदाता----4700

आगनबाड़ी---7

डीलर---3

प्रावि---7

मवि---2

स्वास्थ्य केंद्र----1

हाट बाजार----2

पुस्तकालय---1

चौपाल में हुए शामिल

वार्ड सदस्य बेबी कुमारी, अखिलेश कुमार, शिवचंद्र कुमार, वंदना कुमारी, उप मुखिया जितेन्द्र ठाकुर, रामचंद्र साह, अरविन्द कुमार, रामचंद्र ठाकुर, सुनीता देवी, चतुर्भुज दास, नीलम देवी, चंदेश्वर चौधरी, मो. महबूब, राजेश्वर पंडित, बजरंगी प्रसाद, अविनाश चौधरी, मानती देवी ।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप