मड़वन, जासं। करजा थाना क्षेत्र के मड़वन स्थित स्‍मार्ट सॉल्‍यूशन ऑनलाइन परीक्षा केंद्र पर ब्‍लूटूथ से नकल करते हुए पकड़े गए छात्र मामले की गुत्‍थी परत-दर-परत खुलती जा रही है। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है और इस दौरान सारण जिले के जलालपुर थाना निवासी रोहित कुमार सिंह का नाम सामने आया है। रोहित दो केंद्रों में ऑनलाइन परीक्षा का संचालन करता था। उसका एक केंद्र सारण के मुफस्सिल थाना में और दूसरा मड़वन में है।

पुलिस ने केस के मास्‍टरमाइंड का किया खुलासा

जांच अधिकारी का कहना है कि मामले का मास्‍टर माइंड रोहित भले ही है, लेकिन इसमें नालंदा के रहने वाले प्रेम प्रकाश पटेल की भी भूमिका अहम है। पुलिस के मुताबिक, इन्‍हीं दोनों के निर्देश पर मॉनीटर संग छेड़छाड़ कर सिम सेट किया गया था। इस दौरान यह भी निर्देश दिया गया था कि पकड़े जाने पर किसी भी सूरत में पुलिस के हाथ मॉनीटर न लगे। इसी वजह से जब घटना की जांच शुरू हुई थी तो मॉनीटर को परीक्षा केंद्र की ऊपरी मंजिल की खिड़की से नीचे फेंक दिया गया था। लेकिन किसी तरह से जांच अधिकारी के हाथ दूसरा मॉनीटर लग गया।

Gaya News: सिपाही भर्ती परीक्षा में ब्लूटूथ से नकल करने के आरोप में 43 परीक्षार्थी गिरफ्तार

पुलिस का ऐसा मानना है कि इसमें दिल्‍ली के मोहित के भी शामिल होने की संभावना है। इस बीच आईओ रविकांत के नेतृत्‍व में करजा पुलिस ने रोहित के सारण वाले घर पर छापेमारी की थी, लेकिन वहां वह नहीं मिला। जांच अधिकारी का कहना है कि अगर एक बार रोहित पुलिस के हाथ लग गया, तो पता चल जाएगा कि मामले का तार कहां-कहां से जुड़ा है। फिलहाल इसकी बारीकि से जांच जारी है।

अकूत संपत्ति का मालिक रोहित

छापेमारी करने के लिए टीम जिस वक्‍त रोहित के घर पहुंची थी, तो वहां नजारा देख सभी सदस्‍य हैरान रह गए थे क्‍योंकि ब्‍लूटूथ से कदाचार मामले का मास्‍टरमाइंड रोहित कुमार सिंह का घर किसी आलीशान बंगले से कम नहीं है। यह घर इतना बड़ा है कि इसमें करीब एक से डेढ़ सौ लोग आराम से बैठकर काम कर सकते हैं। इससे पता चलता है कि रोहित इस तरह के मामलों में काफी पहले से लिप्‍त रहा होगा और यही उसकी काली कमाई का जरिया रहा होगा।

क्‍या है पूरा मामला

दरअसल, स्‍मार्ट सॉल्‍यूशन ऑनलाइन केंद्र पर 22 नवंबर को सारण जिले के मांझी थाना क्षेत्र के रहने वाले पंकज कुमार यादव को ब्‍लूटूथ से नकल करते हुए पकड़ा गया था। इसी के साथ सेंटर के आईटी इंचार्ज सारण के ही पिंटू पंडित, इंचार्ज रितेश कुमार, इनविजीलेटर विनीत कुमार व करजा के अख्तियारपुर निवासी मुकुल कुमार को गिरफ्तार किया गया था। इन पर सी-डैक (Centre for Development of Advanced Computing) के जांच अधिकारी अरुण कुमार सिंह के बयान पर करजा थाने में मामला दर्ज किया गया था।

नीट यूजी परीक्षा में पकड़ा गया युवक, ब्लूटूथ डिवाइस से नकल करने की फिराक में था आरोपित

Edited By: Arijita Sen

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट