मुजफ्फरपुर, जेएनएन। पूर्व मेयर समीर कुमार हत्याकांड में आरोपित शूटर गोविंद व सुजीत के सक्रिय रूप से संपर्क में रहने वाले 22 संदिग्ध लोगों के मोबाइल नंबर पुलिस को मिलें हैं। इसमें कई मोबाइल नंबर से लंबी बातचीत के प्रथम दृष्ट्या प्रमाण मिले हंै। इन नंबरों को पुलिस सर्विलांस पर रखकर इसके कॉल डिटेल निकाल रही है। टेक्निकल सेल से उक्त नंबरों के कैफ और कॉल डिटेल की मांग की गई है। इससे पुलिस को मोबाइल नंबर के धारक और इस्तेमाल करनेवालों का नाम-पता मिलेगा। जांच में अगर कोई साक्ष्य मिले तो उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जाएगी। पुलिस इस कांड का गोविंद व सुजीत को शूटर मान रही है।

दोनों की जमानत अर्जी पर 11 को सुनवाई

दोनों की ओर से जिला जज के कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी भी दाखिल की गई है। इस पर 11 दिसंबर को सुनवाई होनी है। कोर्ट ने आइओ से केस डायरी की मांग कर रखी है। पुलिस की ओर से ठोस साक्ष्य के साथ केस डायरी कोर्ट में पेश करने की तैयारी चल रही है, ताकि उसे जमानत नहीं मिल सके। पुलिस की अर्जी पर सीजेएम कोर्ट पहले ही वारंट जारी कर चुकी है। इसका तामिला नहीं होने पर पुलिस कोर्ट से दोनों के विरुद्ध इश्तेहार जारी कराने की प्रक्रिया भी शुरू कर सकती है।

कई से होती थी लंबी बात

पुलिस को मिले मोबाइल नंबरों में कई ठेकेदार, व्यवसायी व प्रोपर्टी डीलर के नाम शामिल हैं। 23 सितंबर को पूर्व मेयर समीर कुमार की हत्या के बाद गोविंद व सुजीत ने इन लोगों से मोबाइल पर कई बार लंबी बात की। इसमें गन्नीपुर के एक ठेकेदार के घर पर पुलिस ने छापेमारी भी की थी। उसे गिरफ्तार करने में पुलिस को सफलता नहीं मिली, लेकिन उसका मोबाइल पुलिस को मिल गया। उस मोबाइल में गोविंद की एके-47 लिए तस्वीर थी।  

Posted By: Ajit Kumar