मुजफ्फरपुर, जेएनएन। फिल्म आर्टिकल-15 से जुड़े लोगों के विरुद्ध मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सीजेएम सूर्यकांत तिवारी के कोर्ट में सोमवार को परिवाद दाखिल किया गया है। यह परिवाद सिविल कोर्ट के अधिवक्ता शिवकुमार झा ने दाखिल किया है। इसमें फिल्म के निर्माता-निर्देशक अनुभव सिन्हा, संगीत निर्देशक अनुराग शेखिया, मगेश ठाकरे, अभिनेत्री इशा तलवार, अभिनेता आयुष्मान खुराना, नसामी चक्रवर्ती, श्यानी गुप्ता व कुमोद मिश्रा को आरोपित बनाया है। परिवाद कर्ता के अधिवक्ता सुधीर कुमार ओझा ने बताया कि सीजेएम ने परिवाद को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है। कोर्ट ने इसकी सुनवाई के लिए 17 जून की तारीख मुकर्रर की है। 

परिवाद में यह लगाया आरोप

अधिवक्ता शिव कुमार झा के कहा है कि अपने चैंबर में यू-ट्यूब पर आर्टिकल-15 फिल्म का टेलर देखा। यह फिल्म उत्तर प्रदेश की बदायूं जिला में वर्ष 2014 में घटित घटना पर आधारित बताई गई है। इस फिल्म में सोची-समझी साजिश के तहत ब्राह्मण जाति के खिलाफ दुष्प्रचार किया गया है। आरोपितों ने जानबूझ कर ब्राह्मण जाति को अपमानित करने को लेकर अनुसूचित जाति को उसकाने का प्रयास किया गया है।

  इस फिल्म में जातिगत आधार कई आपत्तिजनक बयान व दृश्य है। जबकि इस घटना की सरकारी जांच में आए तथ्य फिल्म के दृश्य व बयान से अलग है। इस फिल्म का टेलर जारी किया गया है और 26 जून को इस फिल्म को रिलीज करने की तारीख निश्चित की गई है। परिवाद में कोर्ट से फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने की प्रार्थना की गई है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस