मुजफ्फरपुर, जेएनएन। हज 2021 के सफर में नाबालिग व 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों पर रोक रहेगी। वैश्विक समस्या कोरोना वायरस से बचाव को लेकर कई बदलाव किए गए हैं। हज कमेटी द्वारा जारी गाइडलाइन में कहा गया है कि 18 वर्ष से कम और 65 की उम्र पूरी कर चुके वृद्धों के लिए हज का सफर वर्जित होगा। हज सफर की अवधि को कम कर दिया गया है। अब 40 के बदले 30 से 35 दिनों का ही सफर होगा। कोराना से बचाव को सऊदी अरब में हज यात्रियों के ठहराने की व्यवस्था में भी बदलाव किए गए हैं। एक कमरे में महज तीन लोग ही होंगे। बिना पुरुष अभिभावक वाले महिला ग्रुप में भी इतनी ही संख्या होगी। अब सिर्फ अजीजिया ग्रुप ही होगा। इसके ठहराव की व्यवस्था हरम से आधा से एक किलोमीटर की दूरी पर होगी। हज यात्रियों की जेब पर भी इसका असर पड़ेगा। सूत्रों के अनुसार एक आजमीन-ए-हज को करीब तीन लाख 75 हजार रुपये अदा करना होगा। 

हज के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू, दस दिसंबर तक का समय

हज 2021 के लिए आवेदन शुरू हो चुका है। आवेदन दस दिसंबर तक होगा। इस बार ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था की गई है। बिहार राज्य हज कमेटी ने मस्जिदों के इमाम व मदरसा-खानकाहों के उलेमाओं से अपील की है कि इस संबंध में लोगों को जागरूक करें। बिहार राज्य हज कमेटी के चेयरमैन हाजी मो. इलियास ने कहा कि हज 2021 के लिए गाइडलाइन जारी की गई है। कोरोना वायरस से बचाव को लेकर कई बदलाव किए गए हैं। सुरक्षा के लिहाज से 18 वर्ष से कम व 65 वर्ष से अधिक को रोका गया है। अब सिर्फ अजीजिया ग्रुप ही होगा। जिला खादीमुल हुज्जाज कमेटी के अध्यक्ष हाजी मजहरुल बारी उर्फ पप्पू ने कहा कि 65 वर्ष से अधिक के वृद्धों पर रोक से कई लोग हज से वंचित रह जाएंगे। किए गए बदलाव का भी असर पड़ेगा। जिला खादीमुल हुज्जाज आजमीन-ए-हज की मदद के लिए पिछले कई वर्षों से काम कर रही है।

हज को लेकर ये होंगे बदलाव

- कोलकाता से होगी फ्लाइट।

- पहली किस्त के रूप में एक लाख 50 हजार रुपये जमा करने होंगे।

- सफर से पहले अब मिलेंगे 1500 सऊदी रियाल।

- हज कमेटी ऑफ इंडिया हज यात्रियों को देगी बैग, देनी होगी कीमत। 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप