मुजफ्फरपुर, जेएनएन। इन दिनों ठंड जनित बीमारियों से पीडि़त मरीजों की संख्या में बेतहाशा वृद्ध हुई है। एसकेएमसीएच में शनिवार को 300 से अधिक ऐसे मरीज इलाज को पहुंचे। इनमें कोल्ड डायरिया से ग्रसित आठ बच्चों सहित 32 मरीजों को भर्ती किया गया।

शिशु विभागाध्यक्ष डॉ. गोपाल शंकर साहनी एवं डॉ. विजय कुमार ने बताया कि कोल्ड डायरिया बच्चों के लिए बड़ी समस्या होती है। इसका कारण रोटा वायरस है। इसमें बच्चों को बार-बार पतला दस्त होता है। इसके साथ ही कई बार बुखार व उल्टी भी होती है। इससे बच्चों में पानी व पोषक तत्वों की कमी होने के कारण वह काफी कमजोर हो जाता है। इससे बचाव के लिए बच्चों को ठंड से बचाना चाहिए। बीमार पडऩे पर ओआरएस का घोल देना चाहिए। तरल पदार्थ के साथ पर्याप्त मात्रा में पानी पिलाना चाहिए। इसके बावजूद परेशानी कम नहीं होने पर तत्काल चिकित्सक से परामर्श लेना जरूरी है।

एसकेएमसीएच के अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने बताया कि यहां आने वाले सभी मरीजों के समुचित इलाज की व्यवस्था है। भर्ती मरीजों को ठंड से बचाव के लिए बरामदे पर पर्दे लगाए गए हैं। वहीं कक्ष में भर्ती मरीजों को पर्याप्त कंबल देने के निर्देश कक्ष परिचारिकाओं को दिए गए हैं।  

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021