मुजफ्फरपुर, जेएनएन। सावन की पहली सोमवारी पर बाबा गरीबनाथ मंदिर में करीब 40 हजार शिवभक्तों ने बाबा का जलाभिषेक किया। कांवरियों का आना रविवार की सुबह से जो शुरू हुआ, सोमवार देर शाम तक जारी रहा। मंदिर प्रबंधन की मानें तो इस बार डाक कांवर सहित करीब 15 हजार कांवरियों ने बाबा गरीबनाथ का जलाभिषेक किया। सुबह करीब तीन बजे से स्थानीय लोगों का आना भी शुरू हो गया। 'बोल बमÓ और 'हर हर महादेवÓ के स्वर वातावरण में गूंज रहे थे। लोगों ने कतारबद्ध होकर अरघा के माध्यम से बाबा को जल चढ़ाया।

 

हालांकि, भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अन्य बार की तरह ही पुलिस प्रशासन व मंदिर प्रबंधन की ओर से पर्याप्त इंतजाम किए गए थे। मंदिर व मेला परिसर में काफी संख्या में पुरुष व महिला स्वयंसेवक तैनात थे। काफी पुलिस भी तैनात थी। प्रशासन की ओर से विभिन्न अधिकारियों के अलावा मंदिर न्यास समिति सचिव एनके सिन्हा, प्रशासक पं. विनय पाठक, न्यास समिति सदस्य डॉ. गोपाल फलक आदि व्यवस्था पर नजर रखे हुए थे। लोगों की भीड़ कम होने पर दोपहर करीब चार बजे प्रशासनिक स्वीकृति के बाद मंदिर प्रबंधन ने अरघा हटा दिया। उसके बाद देर शाम तक जल चढ़ाया गया।

कई कांवरियों ने दिया दंड प्रणाम

पहलेजा घाट से कई दंडी बम भी बाबा के जलाभिषेक के लिए पहुंचे थे। उन्होंने दंड प्रणाम देते हुए बाबा को अभिषेक करने का संकल्प पूरा किया।

कांवरिया मार्ग में कुछ जगहों पर रहा अंधेरा

कांवरिया मार्ग में कुछ जगहों पर अंधेरा रहने से कांवरियों को काफी परेशानी हुई। अंधेरे में अचानक कंकड़-पत्थर पर पैर पर जाने से उठती टीस से उन्हें कष्ट हो रहा था। कुछ लोगों ने टॉर्च के सहारे यात्रा पूरी की।

मनाही के बावजूद प्रतिबंधित क्षेत्र में लगी रहीं दुकानें

शहर में प्रवेश करने पर निर्धारित कांवरिया मार्ग में मनाही के बावजूद कुछ फुटपाथी दुकानदारों ने दुकान सजाने से गुरेज नहीं किया। लाख कहने पर भी वे नहीं माने। पहली सोमवारी में भक्तों की संख्या अधिक नहीं रहने के कारण ज्यादा परेशानी तो नहीं हुई, मगर यदि दूसरी सोमवारी में भी यह स्थिति रही तो समस्या आ सकती है।

रोक के बावजूद भी बाइक से आए बम

आरडीएस कॉलेज के बाद बाइक, साइकिल या किसी भी वाहन के रोक के बावजूद बाइक बम नहीं माने। रविवार देर रात काफी बाइक सवार बम माखन साह चौक तक आए। वहां से कतार में जाकर जलाभिषेक किया। मेला परिसर में काफी संख्या में बाइक के प्रवेश कर जाने से कुछ देर के लिए परेशानियां उत्पन्न हुईं। स्वयंसेवकों ने किसी तरह स्थिति को संभाला।

शिवालयों में भी देर शाम तक भक्तों ने चढ़ाए जल

उधर, शहर के विभिन्न शिवालयों में भी तड़के सुबह से ही लोगों का आना शुरू हो गया। हर कोई शिव भक्ति के रंग में रंगा नजर आ रहा था। हर तरफ शिवभक्ति के गीत गूंज रहे थे। शहर हो या गांव, मंदिरों में शिव स्तुति के स्वर सुनाई दे रहे थे। सोमवारी को लेकर शहर के रामदयालु स्थित बाबा मुक्तिनाथ मंदिर, हाजीपुर रोड स्थित बाबा मलंग स्थान, शेरपुर स्थित बाबा शक्तिनाथ मंदिर, रेवा रोड स्थित बाबा मनोकामना महादेव मंदिर, अखाड़ाघाट स्थित बाबा लक्ष्मेश्वर बैद्यनाथ महादेव मंदिर, गन्नीपुर स्थित बाबा आनंदभैरव मंदिर, ब्रह्मपुरा चौक स्थित बाबा सर्वेश्वरनाथ महादेव मंदिर, रविदास चौक ब्रह्मपुरा स्थित बाबा नीलकंठ महादेव मंदिर, सिकंदरपुर चौक स्थित बाबा अजगैबीनाथ मंदिर, जंगली माई स्थान, बालूघाट स्थित बाबा भूतनाथ महादेव मंदिर, गोला रोड स्थित दुर्गा स्थान, बीएमपी सिक्स दुर्गा मंदिर परिसर स्थित बाबा गोपेश्वरनाथ महादेव मंदिर आदि शिवालयों में भी भक्तों का तांता लगा रहा। 

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप