मुजफ्फरपुर : एईएस प्रभावित प्रखंडों के समीक्षा के क्रम में डीडीसी उज्जवल कुमार सिंह ने कहा कि समाज के अंतिम पायदान पर बैठे गरीबों के आवास के निर्माण में मानवीय भावना का परिचय दें। गंभीरता पूर्वक कार्य करते हुए लक्ष्यों को निर्धारित अवधि के अंदर प्राप्त करें। उन्होंने कहा कि एईएस प्रभावित प्रखंडों में आवास निर्माण की गति बढ़ाए जाने की जरूरत है। ताकि पीड़ितों को लाभ मिल सके। बता दें कि शुक्रवार को जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के तत्वावधान में पीएम आवास योजना ग्रामीण के अंतर्गत एईएस से प्रभावित प्रखंडों के लाभुकों को लाभान्वित करने से संबंधित कार्यशाला का आयोजन किया गया था। डीडीसी ने कहा कि कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यदि लापरवाही सामने आई तो कार्रवाई तय है। कार्यशाला में उपस्थित निदेशक डीआरडीए ने कहा की वित्तीय वर्ष 2019-20 में दिए गए लक्ष्य के विरुद्ध कार्य की गति धीमी है। जबकि 2016-17 एवं 2017-18 में सभी पाच प्रखंड मुशहरी, काटी, मीनापुर, बोचहा और मोतीपुर में कुल 13016 आवास निर्माण की स्वीकृति हुई थी। जिसमें 12256 को प्रथम किश्त की राशि उपलब्ध कराई गई और कुल 7721 आवासों का निर्माण हुआ। जिसमे मीनापुर में सबसे अधिक 2519 आवासों का निर्माण किया गया। वित्तीय वर्ष 2019-20 में उक्त सभी प्रखंडों में 15233 स्वीकृत हुए हैं। जिसमें 7896 को प्रथम किश्त की राशि दी गई और 384 आवासों का निर्माण किया गया। कार्यशाला में डीडीसी के अलावा डीआरडीए निदेशक ज्योति कुमार, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी कमल सिंह एवं एईएस प्रभावित पाच प्रखंडों के बीडीओ एवं ग्रामीण आवास सहायक भी कार्यशाला में उपस्थित थे।

---------------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस