समस्तीपुर, जेएनएन। बक्सर की तर्ज पर वारिसनगर में जिंदा जलाई गई महिला की शिनाख्त अब तक नहीं हो सकी है। महिला की पहचान के लिए 72 घंटे तक शव को सुरक्षित रखा गया है। इसके अलावा माइक से सूचना दी जा रही है। पहचान के लिए उसकी तस्वीर विभिन्न थाना क्षेत्रों में भेजी गई है। प्रारंभिक जांच में जो बातें सामने आई हैं, उससे वारदात की भयावहता का पता चलता है। हालांकि एसपी का कहना है कि पोस्टमार्टम और एफएसएल की रिपोर्ट आने के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। 

  प्रथम दृष्टया गुरुवार को जो बातें सामने आईं, उसके अनुसार अपराधियों ने पहले नवविवाहिता के दोनों हाथों को जोर से पकड़ा। विरोध पर मरोड़ दिया। इससे हाथों की लहठी टूट गई। शोर मचाने पर उसके मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। युवती ने बचने के लिए संघर्ष किया। इस दौरान फर्श पर गिरने से सिर में चोट लगी। इससे अंदाजा लगाया जा रहा कि घटना किसी मकान में हुई। वहां से लाकर शव यहां जलाया गया। सामूहिक दुष्कर्म हुआ है या नहीं, इसकी मेडिकल जांच के लिए सैंपल लिया गया है। मौत सिर में चोट लगने या फिर आग से जलने से हुई, इसकी भी जांच की जा रही है। 

डीएसपी के नेतृत्व में टीम कर रही जांच

वारिसनगर थाना क्षेत्र के गोही चौर के तंबाकू खेत से बुधवार की सुबह नवविवाहिता का जला शव मिला था। युवती दोनों हाथों में लहठी पहने हुए थी। उसके बाएं हाथ में एक अंगूठी भी मिली है। दोनों पैर भी रंगा हुआ था। नेल पॉलिश भी लगी थी। उम्र 20 से 22 वर्ष बताई जा रही। इसकी जांच सदर डीएसपी प्रीतिश कुमार के नेतृत्व में टीम कर रही है। 

आसपास के जिलों में तस्वीर भेज पहचान की कोशिश

पुलिस के समक्ष पहली चुनौती महिला की पहचान है। इस वजह से उसके शव को 72 घंटे तक सदर अस्पताल में सुरक्षित रखा गया है। जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों के अलावा आसपास के जिले में भी महिला की जली हुई लाश की तस्वीर भेजकर पहचान की कोशिश की जा रही है। विभिन्न थाना क्षेत्रों से हाल में महिलाओं एवं युवतियों के गायब होने की जानकारी इकठ्ठा की जा रही है। 

15 दिनों में मिल जाएगी फारेंसिक टीम की जांच रिपोर्ट

फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी (एफएसएल) की तीन सदस्यीय टीम घटनास्थल पर जांच कर बुधवार को ही कई सैंपल ले गई। पुलिस का कहना है कि 15 दिनों में जांच रिपोर्ट मिलेगी। पुलिस अधीक्षक विकास बर्मन कहते हैं कि पहचान छिपाने के लिए अपराधियों ने महिला को जला दिया। हत्या से पहले दुष्कर्म हुआ या नहीं यह जानकारी पोस्टमार्टम व एफएसएल रिपोर्ट से ही मिलेगी। 

पहचान के लिए पुलिस ने कराई माइकिंग

नवविवाहिता की शिनाख्त के लिए थानाध्यक्ष प्रसुंजय कुमार ने वारिसनगर थाना क्षेत्र सहित आसपास के करीब छह-सात किलोमीटर के दायरे में माइङ्क्षकग कराई। सोशल मीडिया के माध्यम से विभिन्न ग्रुपों पर तस्वीर भेजकर भी पहचान कराने की कोशिश हो रही है। थानाध्यक्ष ने बताया कि चौकीदारों से यह भी पता लगाया जा रहा कि किसी परिवार की कोई महिला गायब तो नहीं है। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही कि कहीं दहेज के लिए तो हत्या नहीं की गई है। यदि ऐसा हुआ होगा तो मायके के लोग जरूर खोजबीन करेंगे। इसके अलावा ऑनरकिङ्क्षलग भी हो सकता है। 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस