मुजफ्फरपुर, जेएनएन। मुजफ्फरपुर शिक्षा विभाग में करीब 30 लाख रुपये के वेतन घोटाले का मामला सामने आया है। मामला गायघाट प्रखंड का है। 54 शिक्षकों को डबल वेतन देकर सरकारी राशि का गबन कर लिया गया। तत्कालीन जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना की लापरवाही से लाखों रुपये का अवैध भुगतान हुआ है।        जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना ने एक बार राज्य सरकार के मद से तो एक बार सर्वशिक्षा अभियान के मद से शिक्षकों का तीन महीने का वेतन भुगतान किया है। गायघाट प्रखंड में राज्य सरकार के मद से 202 शिक्षकों का वेतन भुगतान हो रहा। अन्य शिक्षकों का सर्वशिक्षा अभियान के मद से वेतन भुगतान होता है।
    राज्य सरकार मद के शिक्षकों का दिसंबर 2016 से फरवरी 2017 का बकाया वेतन था। तत्कालीन डीपीओ स्थापना ने राज्य सरकार मद के शिक्षकों के वेतन भुगतान के लिए प्रभारी गायघाट प्रखंड शिक्षा अधिकारी को एडवाइस भेजने का निर्देश दिया। प्रखंड शिक्षा अधिकारी ने 256 शिक्षकों के दिसंबर 2016 से फरवरी 2017 तक के बकाया वेतन भुगतान का एडवाइस भेज दिया। इसमें 54 उन शिक्षकों के नाम शामिल किए गए, जिनका सर्वशिक्षा अभियान मद से वेतन भुगतान हो चुका था। 
   जिला कार्यक्रम पदाधिकारी ने बिना जांच के ही शिक्षकों का विपत्र कोषागार व बैंक को भेजा दिया। राज्य सरकार मद के 202 शिक्षक हैं, जबकि एडवाइस 256 का आया था। इस पर डीपीओ की ओर किसी तरह की आपत्ति नहीं की गई। 54 शिक्षकों का तीन-तीन महीने का डबल वेतन भुगतान का खुलासा होने के बाद अधिकारियों की बेचैनी बढ़ी। जिला शिक्षा अधिकारी ने प्रभारी गायघाट प्रखंड शिक्षा अधिकारी मो. ईशा से स्पष्टीकरण पूछा है। 
   वहीं, राशि वसूली को लेकर प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश दिया है। वेतन घोटाला को लेकर परिवर्तनकारी प्रारंभिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष वंशीधर व्रजवासी ने क्षेत्रीय शिक्षा उप निदेशक से मामले की शिकायत की। इसमें कहा कि मामले की जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। वहीं जिला शिक्षा अधिकारी ललन प्रसाद सिंह ने कहा कि वेतन भुगतान में गड़बड़ी की बात सामने आयी है। जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। 
नियोजित शिक्षकों का दो मद से होता वेतन भुगतान
जिले में नियोजित शिक्षकों का दो मद से वेतन भुगतान होता है। एक सर्वशिक्षा अभियान तो दूसरा राज्य सरकार के मद से। डीपीओ स्थापना ने ही दोनों ही मद के शिक्षक को चिह्नित कर प्रखंड शिक्षा अधिकारियों को सूची सौंप चुकी है। 
विवादों से घिरे हैं प्रभारी गायघाट बीईओ
मुजफ्फरपुर के कटरा प्रखंड के प्रखंड शिक्षा अधिकारी मो. ईशा विवादों से घिरे हैं। जिला शिक्षा अधिकारी ने कटरा बीईओ को गायघाट की अतिरिक्त जिम्मेवारी दी गई। जहां गड़बड़ी हुई है। इससे पूर्व वे मीनापुर के प्रभारी बीईओ रहे हैं। उनके कार्यकाल में बीआरसी में अगलगी की घटना हुई थी। बीआरसी में आग लगाई गई थी। इसमें उनकी भूमिका संदिग्ध पाई गई थी। इसके बाद स्थानीय थाने में प्राथमिकी भी दर्ज कराई गई थी।  

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस