मुजफ्फरपुर : एलएस कॉलेज में उपभोक्ता संरक्षण और सशक्तीकरण विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार का मंगलवार को समापन हो गया। बतौर मुख्य अतिथि जिला कंज्यूमर फोरम के चेयरमैन पूर्व जिला जज अनिल कुमार सिंह ने उपभोक्ता संरक्षण के लिए नियम और परिनियमों की चर्चा की। साथ ही प्रतिभागियों को अपने अधिकारों के प्रति खुद जागरूक होने और लोगों को भी जागरूक करने को कहा। बताया कि सेवा या किसी भी सामान में यदि खराबी मिले तो इसके खिलाफ आवाज जरूर उठाएं। आइआइपीए मुजफ्फरपुर लोकल ब्रांच के सुरेंद्र प्रसाद सिंह ने तकनीकी सत्र की अध्यक्षता की। जिला उपभोक्ता फोरम के सदस्य नारायण भगत ने भी प्रतिभागियों को अधिकारों और कानूनी जानकारियों से अवगत कराया। डॉ. सुरेश मिश्र और डॉ.सपना चड्डा ने भी उपभोक्ताओं के अधिकारों को लेकर प्रतिभागियों की जिज्ञासाओं को शांत किया। पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन के माध्यम से डॉ.सपना चड्डा ने उपभोक्ताओं के अधिकारों को बताया। दूसरे दिन पहले तकनीकी सत्र में ग्राहकों को जागरूक और सशक्त बनाने में एनजीओ, समाज और मीडिया की भूमिका विषय पर वरीय अधिवक्ता प्रमोद शुक्ला ने कहा कि समाज में रहने वाले सभी लोग किसी न किसी रूप में उपभोक्ता हैं। सिनेमा हॉल, डॉक्टर, सड़क या सुविधा या सेवा जिसके लिए उपभोक्ताओं से पैसा लिया जाता है और गुणवत्ता में कोई कमी होती है जो इसके लिए उपभोक्ता फोरम में शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इंश्योरेंस होने के बाद भी वाहन चोरी हो जाने की स्थिति में अक्सर बीमा कंपनी ग्राहकों को उसका हर्जाना नहीं देती। अधिकतर उपभोक्ता इसके लिए कोर्ट कचहरी जाने के भय से घबराकर शिकायत नहीं करते। जबकि, अगर वाहन का बीमा हुआ है तो हर हाल में संबंधित कंपनी ही उसका हर्जाना देगी। ग्राहक सेवा फोरम में ऑनलाइन भी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। अविनाश कुमार, डॉ.ममता बनर्जी, श्वेता कुमारी, डॉ.प्रियंका कुमारी, रूबी कुमारी ने इस दौरान अपने शोध पत्र प्रस्तुत किए। समापन सत्र की अध्यक्षता डॉ.ओपी राय ने की। पीजी राजनीति विज्ञान विभागाध्यक्ष डॉ.अवधेश कुमार सिंह ने शॉल देकर सभी अतिथियों का स्वागत किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस