मुजफ्फरपुर, जासं। विगत एक माह से ठंड और बारिश की मार झेलते-झेलते ऊब चुके मुजफ्फरपुर के लोग यह जानना चाह रहे हैं कि उन्हें इस हाड़ कंपाने वाली ठंड से राहत कब मिलने जा रही है? यही हाल पूरे उत्तर बिहार का भी है। मौसम विभाग की ओर से जारी पूर्वानुमान में अभी ठंड से राहत मिलने के कोई भी संकेत नहीं दिख रहे हैं। तात्पर्य यह कि लोगों को और अधिक ठंड झेलने के लिए तैयार रहना होगा। खासकर पछिया के प्रभाव सेे होने वाली गलन की मार। हालांकि दिन में हल्की धूप निकलेगी, लेकिन हवा के कारण यह भी प्रभावहीन ही रहेगा। इसलिए कहीं से भी राहत की उम्मीद नहीं है। न केवल इंसान वरन फसलों को भी इससे नुकसान हो रहा है। खासकर आलू की फसल। 

डा.राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय,पूसा ने अगले पांच दिनों का पूर्वानूमान जारी किया है। इसके मुताबिक ठंड से अभी राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। दो डिग्री तक पारा और नीचे जाएगा। पूर्वानुमान की अवधि में उत्तर बिहार के जिलों में पछुआ हवा चलने से कनकनी और ठंड का प्रकोप बना रहेगा। सुबह के समय कुहासे का सामना करना होगा। दिन में मौसम साफ रहने की संभावना है। अगले चार दिनों तक न्यूनतम तापमान 7 से 8 डिग्री के बीच रहने का अनुमान है। अधिकतम तापमान 20 से 22 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है। सात से दस किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से पछुआ हवा चलेगी। दूसरी ओर पिछले दो दिनों से अधिकतम तापमान 17.5 डिग्री सेल्सियस पर स्थिर बना है। मौसम में उतार-चढ़ाव जारी है। शनिवार की बात करें तो सुबह में कहीं-कहीं कुहासा छाया हुआ है। आसमान साफ दिख रहा है। इस हालत में घर से बाहर निकलने वालों को अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है। उन्हें ठंड से बचाव के सभी संभव उपायों को करना चाहिए। शाम में देर से लौटने वालों को तो और अधिक सावधान रहने की आवश्यकता है।  

Edited By: Ajit Kumar