मुजफ्फरपुर, जासं। Muzaffarpur Nagar Nigam: बीते वित्तीय वर्ष में आंतरिक स्रोतों से राजस्व वसूली में नगर निगम पिछड़ा गया। प्रॉपर्टी टैक्स, स्टॉल किराया, मोबाइल लाइसेंस शुल्क समेत कई मदों में निगम का खराब प्रदर्शन रहा। निगम को सबसे अधिक राजस्व प्रॉपर्टी टैक्स से प्राप्त होती है। वित्तीय वर्ष की समाप्ति के बाद निगम द्वारा जारी वसूली का आंकड़ा बताता है कि निगम बीते वित्तीय वर्ष में 8.46 करोड़ की वसूली कर पाया, जबकि कुल मांग 13.31 करोड़ रुपये था।

सरकारी भवनों से निगम महज 3.73 करोड़ रुपये वसूल पाया, जबकि कुल मांग 6.29 करोड़ था। स्टॉल किराये की वसूली भी खराब रही। 2.16 करोड़ की वसूली लक्ष्य के विपरीत निगम महज 88.98 लाख की वसूली कर पाया। अन्य स्रोतों की बात करे तो मोबाइल टावर से 49.33 करोड़ लक्ष्य के विरुद्ध 11.58 लाख, विज्ञापन शुल्क 70 लाख लक्ष्य के विरुद्ध 37.63 लाख, ऑटो पार्किंग शुल्क से 10.25 लाख लक्ष्य के विरूद्ध 1.90 लाख रुपये की वसूली निगम कर पाया है। अन्य लाइसेंस शुल्क की वसूली अन्य स्रोतों से बेहतर रही। इससे वसूली का लक्ष्य 19.48 लाख था जबकि वसूली 15.54 लाख की हुई। यदि सभी स्रोतों से वसूली की बात करते तो निगम बीते वित्तीय वर्ष में कुल मांग का 55 फीसद राजस्व की वसूली कर पाया है। निगम वित्तीय वर्ष के अंतिम दिन महज 4.48 लाख की वसूली कर पाया।  

Edited By: Ajit Kumar