मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। शहर के ब्रह्मपुरा थाना में तैनात महिला सिपाही की पुणे में हुई मौत मामले में अब हर दिन नई जानकारी सामने आ रही है। पुणे से उसके शव के साथ मुजफ्फरपुर पुलिस लाइन पहुंचे उसके पति ने बतया कि वह डेढ़ माह की प्रेग्नेंट थी। इसकी वजह से लगातार बीमार रहती थी। बावजूद इसका कमान काट दिया गया और चार पुरुष पुलिस अधिकारियों के साथ पुणे भेज दिया गया। अकेली महिला होने की वजह से भी वह असहज महसूस कर रही थी। इतना ही नहीं उसे वहां खाने और रहने में भी असुविधा हो रही थी।

  • - डेढ़ महीने की गर्भवती थी कविता, बीमार रहने के बाद भी उसे ड्यूटी पर जाने के लिए जबरन कमान काटकर भेजा गया
  • - महिला सिपाही की मौत पर पति ने उठाया सवाल, कहा - पलंग से सटा था पैर, ऐसे में खुदकुशी कैसे
  • - पुणे से शव लेकर पहुंचे स्वजन के गुस्से का पुलिस पदाधिकारियों को करना पड़ा सामना

असहज महसूस कर रही थी

मृत महिला सिपाही के पति भूपेंद्र ने पुणे से यहां पहुंचने के बाद बताया कि उसे न तो पुणे की पुलिस सहयोग कर रही और न ही मुजफ्फरपुर की। जिस तरह की तस्वीर पुणे की पुलिस ने दिखाई है उससे यह नहीं लगता है कि सुसाइड का मामला है। पैर पलंग से टच हो रहा है। ऐसी स्थिति में खुदकुशी कैसे हो सकता है? उन्होंने कहा कि इस घटना से पहले करीब एक घंटे तक हमारी बातचीत हुई थी। इसमें वह कहीं से भी कमजोर नहीं लग रही थी। चार पुरुषों के बीच अकेली महिला होने तथा रहने और खाने की परेशानी की चर्चा की थी, लेकिन मैंने उसे समझा दिया था।

पुणे पुलिस ने दर्ज किया बयान

उन्होंने कहा कि हमलोगों के पहुंचने से पहले ही लाश को होटल के कमरे से निकाल लिया गया था। इसका कोई वीडियो भी तैयार नहीं किया गया है। पुणे की पुलिस ने मेरा या मेरे पिता का बयान भी दर्ज नहीं कराया। वहीं दूसरी ओर कविता के ससुर ने भी हत्या की आशंका प्रकट की है। उन्होंने पुलिस की कार्य संस्कृति को लेकर भी असंतोष प्रकट किया। वहीं कविता के साथी जवान इस मौके पर भावुक नजर आ रहे थे। 94 लाख की धोखाधड़ी व गबन के मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर ब्रह्मपुरा थाने की पुलिस टीम पुणे गई थी। उसी दौरान पुणे के एक होटल में महिला सिपाही का फंदे से लटका शव मिला था।  

Edited By: Ajit Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट