मुजफ्फरपुर, जासं। सदर थाना परिसर से बालू लदे जब्त ट्रक को लेकर चालक फरार हो गया। ओवरलोङ्क्षडग में खनन विभाग ने उक्त ट्रक को जब्त किया था। मामले में खनिज विकास पदाधिकारी घनश्याम झा ने सदर थाने में यूपी नंबर के उक्त ट्रक के मालिक व चालक के विरुद्ध सदर थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई है। बताया कि पांच दिन पूर्व गुप्त सूचना पर खनन विभाग की टीम ने ओवरलोड बालू लदे ट्रक को भगवानपुर चौक के समीप से पकड़ा था। जांच में पता चला कि ट्रक पर छह सौ सीएफटी बालू लदा था। खनन विभाग के पदाधिकारी ने 26 जुलाई को सदर थाना परिसर में यूपी नंबर के ट्रक को लगवाया था। ट्रक का एक्सल (धुरी) खोलवा दिया गया था, ताकि ट्रक लेकर कोई भाग नहीं सके। इसके बावजूद रात में चालक व मालिक ने मिलकर उक्त ट्रक को थाना से लेकर भाग निकले। जुर्माने की कार्रवाई नहीं होने से सरकार को दो लाख 31 हजार रुपये राजस्व की क्षति हुई है। हैरत तो यह है कि थाना परिसर से ट्रक गायब हो गया, मगर इसकी भनक पुलिस को नहीं लग सकी। तीन दिन बाद जब खनन पदाधिकारी वहां आए तो ट्रक गायब पाया। इसके बाद मामला दर्ज कराया गया। मामले में सदर थानाध्यक्ष सत्येंद्र मिश्रा ने बताया कि परिसर में जगह नहीं है। सड़क किनारे बाहर में ट्रक खड़ी कर दी गई थी। इसी क्रम में ऐसा हुआ है। मालिक व चालक के बारे में पता लगाकर कार्रवाई की जा रही है। 

मजदूरी के नाम पर झांसा देकर नौ को बनाया बंधक

मोतिहारी ( पू. चंपारण), संस : राइस मिल में मजदूरी के नाम पर बुला कर नौ मजदूरों को बंधक बना लिया गया। इस बाबत मुजफ्फरपुर जिले के साहेबगंज थाना क्षेत्र के देवधारा गांव निवासी पुतुल देवी ने मुफस्सिल थाने में आवेदन दिया है। बताया कि 29 जुलाई को पति शंभू शर्मा के खाते में पांच हजार रुपये भेजकर फोन पर कहा कि आप गाड़ी भाड़ा कर आठ मजदूरों के साथ राइस मिल में आइए। वहां जाने पर सभी मजदूरों को बंधक बना लिया गया। साथ ही एक लाख दस हजार रुपये लेवी के रूप में मांगने लगे। नहीं देने पर अप्रिय घटना को अंजाम देने की बात कही। बताया कि

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के रुलही गांव निवासी लालबिहारी सहनी समेत पांच अज्ञात लोगों ने एक सरकारी विद्यालय के कमरें में सबको बंद कर रखा है। इसमें शंभू शर्मा, लालबाबू मांझी, दिलीप मांझी, गुजन मांझी, शंकर मांझी, नीतीश कुमार, अजय कुमार, पवन कुमार, विकास मांझी हैं। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।  

Edited By: Ajit Kumar