मुजफ्फरपुर, जेएनएन। सुमेरा पंचायत में अलीशान व दूसरे पक्ष के बीच वर्चस्व की लड़ाई के लिए काफी दिनों से अदावत चल रही थी। ग्रामीणों का कहना है कि करीब दो दशकों से ही अलीशान का गांव के लोगों से विवाद में मुकदमेबाजी चल रही थी। पुलिस की प्रारंभिक जांच में गांव की राजनीति में वर्चस्व कायम करने के लिए रंजिश में हत्या करने की बात सामने आई है।

 अलीशान की छवि भी दबंग प्रवृत्ति की थी। इसके कारण कई लोगों को परेशानी हो रही थी। वे लोग उन्हें निपटाने की साजिश रच रहे थे। इसके लिए पूरी तैयारी की गई। फिर वारदात को अंजाम देने के पूर्व अपराधियों ने पूरी रेकी की। वे कब घर से निकलते हैं, कहां जाते हैं, कहां घटना को अंजाम देना है, ताकि भागने में आसानी हो। फिर वारदात को ऐसी जगह अंजाम दिया गया, जहां से भागना आसान था। सड़क के दोनों तरफ खेत ही खेत है। कुछ दूर आगे जाने के बाद दूसरा रास्ता मिलता है। अपराधियों ने मुखिया पति को वहां पहुंचने का मौका ही नहीं दिया।

पंचायत चुनाव के बाद कई के निशाने पर

 पिछले पंचायत चुनाव का नतीजा आने के बाद कई दबंगों और अपराधी प्रवृत्ति के लोगों ने मुखिया पति को निशाने पर ले रखा था। पूर्व में भी कई बार उनपर हमला हो चुका था। इसी साल गांव में दो पक्षों में जमकर विवाद हुआ था। मारपीट व गोली भी चली थी। दोनों तरफ से प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। इसमें भी मुखिया पति का नाम जोर-शोर से उछला था। कुछ माह पूर्व गांव के एक युवक मो. जावेद की भी हत्या हो गई थी। इसमें अलीशान ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था और पंचायती में शामिल हुए थे।

गांव के विवाद में हुई थी पिता की हत्या

 मृतक के भाई मो. जॉनी ने बताया कि करीब 25 साल पूर्व उनके पिता की भी हत्या कर दी गई थी। गांव के विवाद में ही उनकी हत्या हुई थी। ग्रामीणों का कहना था कि पिता के हत्यारे से भी बदला ले लिया था। अलीशान चार भाई हैं, बड़े भाई दिल्ली में रहते हैं। उनकी और अलीशान की गोबरसही में फल का गोदाम व गद्दी है।

दूसरी बेटी की शादी की तैयारी में थे

मृतक के दो पुत्र एहसान व शेरखान हैं, वहीं दो बेटियों में एक की शादी हो चुकी हैै। ग्रामीणों ने बताया कि दूसरी बेटी की शादी भी वे तैयारी में थे। कई जगहों पर रिश्ते की बात चल रही थी।

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस