मुजफ्फरपुर, जेएनएन। एसकेएमसीएच में बहुप्रतीक्षित एमआरआइ (मैग्नेटिक रेजोनेंस इमेजिंग) जांच की सुविधा शनिवार से जरूरतमंद मरीजों मिलनी शुरू हो गई है। यह सुविधा पी-पी मोड पर अस्पताल व बाहरी मरीजों को मिलेगी। इस मशीन का विधिवत उद्घाटन का समय बात में निर्धारित कर किया जाएगा।

  मालूम हो कि इस मशीन के नहीं होने के कारण जहां मरीजों को जांच में काफी परेशानी होती थी। वहीं निरीक्षण के दौरान एमसीआइ (मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया) की टीम ने भी कई बार आपत्ति जताई थी। साथ ही पीजी में अध्यनरत छात्रों की डिग्री की मान्यता पर भी संकट बना था। इसके बाद पीजी के छात्र भी लगातार इसकी मांग कर रहे थे। छात्रों ने उच्च न्यायालय में भी इस मांग को रखा था। इसके बाद प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने 2019 के फरवरी तक इसे लगाने का आश्वासन दिया था। छात्रों ने कहा कि थोड़ी देर हुई पर एमआरआइ जांच मशीन लगने से मेडिकल छात्रों के साथ उत्तर बिहार के मरीजों को भी सुविधा मिलेगी।

 एसकेएमसीएस के मुख्य द्वार पर अतिक्रमण

एसकेएमसीएच के मुख्य द्वार से परिसर तक अतिक्रमणकारियों ने कब्जा जमा रखा है। जबकि एसकेएमसीएच को अतिक्रमण मुक्त करने का न्यायालय से सख्त निर्देश दिया जा चुका है। इसे लेकर प्राचार्य डॉ. विकास कुमार एवं अस्पताल अधीक्षक डॉ. एसके शाही ने जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक से लेकर अन्य अधिकारियों को कई बार पत्र भी लिखा है। इसके बावजूद कोई कार्रवाई नही होने से अतिक्रमणकारियों का मनोबल बढ़ता जा रहा है। अहियापुर थानाध्यक्ष विकास कुमार राय ने बताया कि कई बार अतिक्रमण हटाया जा चुका है। अस्पताल कालेज के पास स्वयं काफी सुरक्षा गार्ड तैनात हैं। इनकी भी जिम्मेदारी को अतिक्रमण मुक्त रखने की है।

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस