समस्तीपुर, जेएनएन। निगरानी टीम ने सरायरंजन अंचल के पूर्व नाजिर और उच्च वर्गीय लिपिक प्रभाकर कुमार सिंह को आठ हजार रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार कर लिया। यह राशि जमीन की मापी करवाने के बदले में ली जा रही थी।

इस बाबत भगवतपुर निवासी रवींद्र कुमार साह ने निगरानी विभाग में शिकायत दर्ज कराई थी। बताया था कि जमीन की मापी कराने के लिए 15 नवंबर 2018 को अचंल कार्यालय में आवेदन दिया था। साथ में एक हजार रुपये फीस भी जमा कर दी। बावजूद इसके प्रभाकर कुमार ङ्क्षसह 10 हजार रुपये घूस मांग रहा था। नहीं देने के कारण जमीन की मापी नहीं कराई जा रही थी। शिकायत के मद्देनजर गुरुवार दोपहर निगरानी विभाग पटना के डीएसपी जमीरउद्दीन के नेतृत्व में टीम पहुंची। योजना के तहत आठ हजार रुपये लेकर उच्च वर्गीय लिपिक को देने के लिए कहा। जैसे ही उसने रुपये लिए तो गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद साथ लेकर पटना चली गई।

 बताया गया कि टीम बीते दो-तीन दिनों से निगरानी कर रही थी। टीम में पुलिस निरीक्षक ईश्वर प्रसाद, जहांगीर अंसारी, लाल मोहम्मद, सत्यापनकर्ता मणिकांत कुमार सशस्त्र बल के साथ थे। गौरतलब है कि वर्ष 2009 में भी निगरानी टीम ने सरायरंजन अंचल के सर्किल इंस्पेक्टर को रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था। 23 जनवरी 2009 सेंट्रल बैंक के एक दलाल को भी 16 हजार रुपये घूस लेते पकड़ा था। इससे पूर्व प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को आठ सौ रुपये घूस लेते गिरफ्तार किया गया था। फिर भी घूसखोरी पर रोक नहीं लगी।  

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप