दरभंगा, जासं। Bihar Politics: मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री मुकेश सहनी इन द‍िनों क‍िसी न क‍िसी वजह से लगातार चर्चा में हैं। सीएम नीतीश कुमार की सरकार में शाम‍िल होने के बावजूद उनका असंतोष क‍िसी सामने आ ही जाता है। दरभंगा के अलीनगर में आयोज‍ित सम्‍मान समारोह के दौरान भी उनका दर्द छलका। इस मंच से अपने व‍िरोधि‍यों को उन्‍होंने संदेश देने की कोश‍िश की। कहा, मैं किसी की मेहरबानी से नहीं, बल्कि वीआइपी पार्टी की बदौलत आज मंत्री हूं। जिस दिन मेरे या निषाद सामाज के साथ भेदभाव हुआ, उसी द‍िन मैं कुर्सी छोड़ दूंगा। अलीनगर प्रखंड क्षेत्र के अंदौली गांव में मल्लाह जनकल्याण संस्था की ओर से आयोजित नागरिक अभिनंदन समारोह में उन्‍होंने कहा क‍ि मैं जब 18 वर्ष की उम्र में मुंबई पहुंचकर झंडा गाड़ सकता हूं तो ब‍िहार तो मेरा घर है। छह वर्ष की मेहनत व लोगों के सहयोग से बिहार में एनडीए सरकार का हिस्सेदार बन चुका हूं। लेकिन, निषाद समाज की लड़ाई बिहार तक ही समाप्त नहीं होने वाली है। इसके ल‍िए दिल्ली में झंडा गाड़ना शेष है। राज्‍य में हुए राजनी‍त‍िक बदलाव की इशारा करते हुए मुकेश सहनी ने कहा क‍ि पहले निषाद समाज के लोग टिकट मांगने जाते थे। आज हमलोग ट‍िकट बांटते हैं।

यह भी पढ़ें: BSEB, Bihar Board Result 2021:'पास कर दीजिएगा..मिठाई के लिए पैसा चाहिए तो...' परीक्षार्थी की ठसक पर सब कह रहे, वाह-भाई-वाह

 

सभी लोग अपने-अपने बच्चों को शिक्षित करें

मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री ने कहा, सभी लोग अपने-अपने बच्चों को शिक्षित करें। इसके दम पर ही समाज का व‍िकास होगा। जल्द ही सभी प्रखंडों में मछली बाजार होगा। साथ ही मछुआरों को 90 फीसद अनुदान पर विभिन्न तरह के उपयोगी वाहन तथा जाल उपलब्ध कराए जाएंगे। सरकारी तालाबों को अतिक्रमण मुक्त कराने के साथ-साथ उसकी सफाई का काम होगा। पशु चिकित्सालय भी खोले जाएंगे। विधायक मिश्रीलाल यादव ने कहा कि अलीनगर के साथ पूर्व में जो पक्षपात व भेदभाव की राजनीत‍ि हुई उसे अपने कार्यकाल में समाप्त करने का हर संभव प्रयास करूंगा। अब अलीनगर का चौकीदार बदल चुका है।

यह भी पढ़ें: समस्‍तीपुर में कोरोना वैक्‍सीन की दोनों डोज लेने के भी पॉज‍िटिव हुए स्‍वास्‍थ्‍य कर्मी, मचा हड़कंप

अभिनंदन समारोह कार्यक्रम की अध्यक्षता गंगा प्रसाद मुखिया ने की। मंच संचालन रामनाथ सहनी ने किया। मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष लाल मुखिया, विजय मुखिया, कैलाश सहनी, अशोक मुखिया, गंगाराम सहनी, देबू मुखिया, बच्चेलाल मुखिया आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: Indian Railways News : होली 2021 से ठीक पहले लखनऊ-बरौनी समेत कई ट्रेनों के रूट में बदलाव, यहां है पूरी जानकारी