दरभंगा, जेएनएन। मधुबनी पेंटिंग से सजे मास्क जल्द ही दुनिया की प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन पर उपलब्ध होंगे। इसे लेकर कंपनी की दरभंगा के शताक्षी क्रिएशन से बात हुई है। शताक्षी क्रिएशन अभी प्रतिदिन तकरीबन 250 मधुबनी पेंटिंग से सजे मास्क बना रहा। इसे सोशल मीडिया के माध्यम से बेचा जा रहा। स्थानीय लोग भी इसकी खरीदारी करते हैं। अभी प्रतिदिन 100 मास्क  की ही बिक्री हो रही। बिक्री बढ़ाने के लिए लगातार प्रयास के बाद अमेजन कंपनी सामने आई। 

शताक्षी क्रिएशन की प्रोपराइटर आशा झा ने बताया कि मधुबनी पेंटिंग से बने मास्क को लेकर कंपनी से बात हुई है। वे इसकी बिक्री के लिए जीएसटी नंबर ले रही है। 1 सप्ताह के अंदर मास्क बिक्री के लिए ऑनलाइन उपलब्ध हो जाएगा। वह कहती हैं, एक मास्क बनाने और उस पर पेंटिंग में करीब 40-50 रुपए खर्च आता है। उनसे 200 से अधिक महिलाएं और लड़कियां जुड़ी हैं। प्रतिदिन तकरीबन 700 मास्क की सिलाई के बाद इस पर यह महिलाएं पेंटिंग करती हैं। 1 दिन में एक महिला तकरीबन 40 मास्क पर पेंटिंग कर लेती है। 

अमेजॉन कंपनी के राज्य के अधिकारी श्रीनिवास ने बताया कि जब मास्क पर मधुबनी पेंटिंग बनाने की जानकारी मिली तो शताक्षी क्रिएशन से संपर्क किया गया। हम लोग चाहते हैं कि इस तरह का उत्पाद बाजार में उतारा जाए। अब तक ऐसा उत्पाद किसी भी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर नहीं है। इसे जल्द ही ऑनलाइन उपलब्ध करा दिया जाएगा।  

राष्ट्रपति के हाथों सम्मानित हो चुकी है आशा

दरभंगा के बाघ मोर निवासी आशा झा पिछले 30 वर्ष से मधुबनी पेंटिंग से जुड़ी है। वर्ष 2013-14 के राष्ट्रीय पुरस्कार से तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के हाथों अपनी कलाकृति के लिए सम्मानित हो चुकी हैं। आशा अब तक करीब 500 से अधिक महिलाओं और लड़कियों को मधुबनी पेंटिंग की ट्रेनिंग दे चुकी हैं। 

 

Posted By: Murari Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस