मुजफ्फरपुर, जेएनएन। मैट्रिक की परीक्षा में अब मात्र सवा माह बचा है। इस अवधि में गणित जैसे अधिकतम अंक देने वाले विषय की तैयारी में रिवाइज को अधिक महत्व देना है। खासतौर से एससीईआरटी की गणित विषय की पुस्तक चैप्टरवाइज प्रमुख सूत्रों को याद कर रिवाइज कर लें। इससे पेपर देने में आसानी होगी और अच्छे अंक आने की संभावना रहेगी।

धैर्य से प्रश्नों को देखें

 ये बातें चैपमैन प्लस टू विद्यालय में गणित की वरीय शिक्षक डॉ. रेखा शर्मा ने कहीं। वे शुक्रवार को मैट्रिक गणित विषय में अच्छी तैयारियों को लेकर परीक्षार्थियों को सलाह दे रही थीं। उन्होंने कहा कि गणित विषय को लेकर छात्रों में डर नहीं होना चाहिए। परीक्षा में 15 मिनट का समय पेपर को पढऩे का मिलता है। उस दौरान धैर्य से प्रश्नों को देखें। जितने प्रश्न समझ में आ रहे हैं, उनको पहले कर लें। खासतौर से वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को पहले कर लेना चाहिए। एससीईआरटी की गणित की पुस्तक के सूत्रों को समझकर याद करने का लाभ यह होगा कि वस्तुनिष्ठ प्रश्न सूत्रों पर आधारित होते हैं। हल करने में आसानी होगी।

प्रत्येक अध्याय से तैयार करें 50-50 वस्तुनिष्ठ प्रश्न

किताब के हर अध्याय से 50-50 वस्तुनिष्ठ प्रश्न तैयार कर लें। याद रखें कि इस किताब से ही पेपर तैयार किया जाता है। इसलिए एससीईआरटी की किताब का अध्ययन कर लें। यही नहीं किताब में दिए गए उदाहरण को याद सूत्रों के आधार पर हल करें। जो अभ्यास दिए गए हैं, उनको भी हल किया जाए। पेपर में बीजगणित, ग्राफ व ज्यामिति संरचना के सवालों का अभ्यास करें। ये दोनों अधिक से अधिक अंक देने वाले हैं। इसी प्रकार बीजगणित के सवालों को हल करने में विशेष ध्यान दें। इसमें भी नंबर अधिक प्राप्त होते हैं। बीजगणित के प्रश्नों के हल करने से पास होने में आसानी रहेगी।

पिछले वर्षों के पेपर को करें हल

परीक्षार्थियों को पिछले साल का छोड़कर 2018 व उसके पहले के पेपरों को हल करना चाहिए। उन सालों के पेपरों के प्रश्नों का अभ्यास कर लेना चाहिए। समय कम बचा है। इसलिए कठिन अध्याय को न पढ़े, जो चैप्टर आसानी से समझ में आए। उसकी तैयारी करें।

परीक्षार्थियों के लिए खास टिप्स

* रिवाइज को दें अधिक महत्व।

*  एससीईआरटी की गणित विषय की पुस्तक से चैप्टरवाइज प्रमुख सूत्रों को याद करें।

*  परीक्षा में 15 मिनट का समय पेपर पढऩे को मिलता है। इस दौरान धैर्य से प्रश्नों को देखें।

*  जो प्रश्न समझ में आ रहे हैं, उन्हें पहले हल कर लें।

*  वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को पहले कर लें। अधिकतर वस्तुनिष्ठ प्रश्न सूत्रों पर आधारित होते हैं।

*  बीजगणित, ग्राफ व ज्यामिति संरचना के सवालों का अभ्यास करें।

*  पिछले कुछ वर्षों के पेपर को हल करें।

*  समय कम बचा है। कठिन अध्याय को न पढ़े, जो चैप्टर आसानी से समझ में आए। उसकी तैयारी करें।

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस