मुजफ्फरपुर, जेएनएन। महुआ प्रोजेक्ट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड व महुआ ग्रुप के संचालक कांटी के दामोदरपुर निवासी जवाहरलाल साह व अन्य के विरुद्ध सीजेएम एसके तिवारी की कोर्ट में परिवाद दाखिल किया गया है। इसमें जिले के जमाकर्ताओं का 25 करोड़ व राज्य भर के जमाकर्ताओं लगभग सौ करोड़ रुपये ठगी करने का आरोप है। परिवाद कांटी थाना के कोठियां गांव के संजय सहनी ने दायर किया है। इसमें जवाहरलाल साह की पत्नी मालती साह, पुत्र आशुतोष कुमार साह, पुत्री तनु साह व प्रबोध कुमार तिवारी को आरोपित किया है। परिवादी के अधिवक्ता कमलेश कुमार ने बताया कि सीजेएम ने परिवाद को सुनवाई पर रखा है। इसकी सुनवाई की तारीख 21 अक्टूबर को मुकर्रर की गई है।  

परिवाद में यह लगाया आरोप 

परिवाद में संजय सहनी ने आरोप लगाया है कि आरोपितगण महुआ प्रोजेक्ट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड एवं महुआ ग्रुप की अन्य समितियां एवं कंपनियों के मुख्य कर्ता-धर्ता हैं। महुआ ग्रुप की विभिन्न कंपनियों व समितियों का निबंधन सहकारिता विभाग से कराया गया। इस निबंधन के आधार कंपनी का कार्यालय खोला गया।

 चार व पांच वर्षो में दोगुना व दस वर्षों में चार गुना होने का झांसा देकर लोगों से अपनी कंपनी के लिए रुपये जमा कराया। इसके लिए एजेंटों को बहाल किया। इसी क्रम में कई लोगों के साथ वह भी इस कंपनी से जुड़ा। जब लोगों की जमा कराई राशि की परिपक्वता की अवधि पूरी हुई और इसका दावा किया जाने लगा तो टालमटोल किया गया। बाद में धमकी दी गई और रातो-रात सभी कार्यालय बंद करके फरार हो गए।

Posted By: Ajit Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप