मुजफ्फरपुर, जागरण संवाददाता। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इधर मंच से भाषण देते रहे; उधर चुनावी सभा में उन्हें सुनने आए युवाओं के बीच जमकर मारपीट होती रही और खूब कुर्सियां भी चलीं। यह पूरा वाक्या शुक्रवार को कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव को लेकर जदयू उम्मीदवार के समर्थन और प्रचार के लिए आयोजित रैली का है। इस घटना के कई वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। चूंकि रैली मुख्यमंत्री की थी तो इस हंगामे और अफरा-तफरी की इस स्थिति को संभालने के लिए पुलिस कर्मियों ने भी तुरंत मोर्चा संभाला।

Bihar: पश्चिम चंपारण में 300 वर्ष पुराने शिव मंदिर को जमीन से चार फीट उठाया, 250 जैक लगाकर बढ़ाई ऊंचाई

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव में जदयू के उम्मीदवार मनोज कुशवाहा के समर्थन में रैली करने के लिए केरमा पहुंचे थे। यहां के हाईस्कूल के खेल मैदान में उनकी रैली आयोजित की गई थी। सीएम नीतीश जनसभा को संबोधित करते हुए रोजगार देने को लेकर अपनी बात कह रहे थे। इसी दौरान हंगामे की स्थिति बनी; जो धीरे-धीरे बढ़कर हाथापाई और फिर कुर्सियां चलाए जाने तक पहुंच गई।

पहले जानिए मुख्यमंत्री नीतीश ने क्या कहा

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपना भाषण शुरू करते हुए कहा कि बिहार के विकास का क्रम जारी रहेगा। कुर्सी संभालने के बाद से समाज के सभी तबके का उत्थान किया है। आगे भी करता रहूंगा। कुढ़नी विधानसभा उपचुनाव को लेकर जदयू उम्मीदवार मनोज कुशवाहा के समर्थन में वह केरमा हाईस्कूल के खेल मैदान में शुक्रवार को जनसभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 10 लाख युवाओं को नौकरी और 10 लाख को रोजगार के साधन सरकार उपलब्ध करा रही है। दूसरी ओर केंद्र सरकार बस प्रचार कर रही है, कोई काम नहीं हो रहा था; इसलिए उनका साथ छोड़ दिया। अब पुरानी जगह पर आ गए हैं। नीतीश ने कहा कि कुछ लोग दुष्प्रचार कर रहे हैं। वह समाज को बांट रहे हैं। मंच की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि यहां सब साथ हैं। बिहार बहुत आगे जाएगा।

सभा में जमकर मारपीट, चलीं कुर्सियां

चुनावी सभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंच से भाषण में सीएम की कुर्सी संभालने के बाद की अपनी उपलब्धियां गिनाईं। इधर, सभा शुरू होने के साथ ही कुछ युवक सीटीईटी और एसटीईटी का पोस्टर लेकर हंगामा कर रहे थे। सभा के मंच से बार-बार इन युवाओं को समझाया भी गया। मंच संचालक की ओर से कहा भी गया कि चिंता नहीं करें, सभी को नौकरी मिलेगी। इसके बावजूद वे लगातार हंगामा करते रहे। मुख्यमंत्री का संबोधन शुरू होने पर युवाओं ने हंगामा और तेज कर दिया। इसे देख वहां मौजूद कुछ लोगों ने युवाओं के साथ मारपीट शुरू कर दी। यह मामला इतना बढ़ा कि कुर्सियां चलने की नौबत आ गई। इस दौरान कई कुर्सियां टूट भी गईं। कुछ देर के लिए वहां अफरातफरी का माहौल बन गया। ऐसे में सीएम की रैली को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने मोर्चा संभाला और स्थिति को काबू किया। बाद में सीएम नीतीश कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि पोस्टर दिखाने वाले भी अपना हित सोचकर वोट डालें। सबको नौकरी मिलेगी तो शिक्षक भी बनाए जाएंगे।

महिलाओं की शिक्षा से प्रजनन दर में कमी : सीएम

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चियों को शिक्षा देने का लाभ बिहार को दूसरे रूप में भी मिला। राज्य में प्रजनन दर चार से घटकर 2.9 हो गई है। इसके अलावा जीविका के माध्यम से महिलाओं को रोजगार दिया जा रहा। उन्होंने सात निश्चय योजना की चर्चा करते हुए कहा कि युवाओं को स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड और स्वयं सहायता भत्ता के रूप में मदद दी जा रही है। अनुसूचित जाति, पिछड़ी जाति एवं महिलाओं को रोजगार के लिए 10 लाख रुपये का ऋण दिया जा रहा है। इसमें पांच लाख तक की सब्सिडी है। इतने सब काम हुए हैं। नल का जल योजना की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि बिहार में योजना पहले आई थी। केंद्र इसके लिए राशि देकर कह रहा है कि उसका नाम दे दीजिए, मगर हमने राशि नहीं ली। देना है तो बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दें।

नफरत की राजनीति करने वालों को मिलेगा जवाब : तेजस्वी

सभा को संबोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश और लालू प्रसाद का एक होना समय की मांग थी। भाजपा की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ लोग समाज में जहर घोलने का काम कर रहे हैं। लोगों को ठग रहे हैं। देश में लोकतंत्र को समाप्त करने का प्रयास किया जा रहा है, मगर नफरत की राजनीति करने वालों को करारा जवाब मिलेगा। अगले लोकसभा चुनाव में बिहार से उन्हें एक भी सीट नहीं मिलेगी। उन्होंने कहा कि सांप्रदायिक ताकत छापे मारकर डराने की कोशिश कर रही है। उन्हें यह समझना चाहिए कि जब लालू प्रसाद इस ताकत के आगे नहीं झुके तो उनका बेटा कैसे झुक जाएगा। सत्ता में आने से पहले भाजपा के महंगाई को डायन कहे जाने पर भी उन्होंने मंच से कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि पहले यह डायन थी, अब भौजाई और महबूबा हो गई है।

नीतीश की तारीफ भी की

उपमुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री की जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा कि नीतीश हैं तो सब होगा। चिंता नहीं करें। 10 लाख लोगों को रोजगार की घोषणा 15 अगस्त को कर दी है। शिक्षक ही नहीं सभी क्षेत्र में रोजगार मिलेगा। सभा को मंत्री विजय चौधरी, डॉ. चंद्रशेखर, समीर महासेठ, आलोक मेहता, सुरेंद्र यादव आदि ने भी संबोधित किया।

टूटे चावल, मक्का और गन्ना से बनेगा एथनाल : नीतीश

चुनावी रैली में मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र को डेढ़ सौ से अधिक एथनाल फैक्ट्री का प्रस्ताव भेजा गया था। इसमें से 17 को ही स्वीकृति मिली। टूटे चावल, मक्का एवं गन्ना से एथनाल बनेगा तो राज्य की तस्वीर बदलेगी। शिक्षक भर्ती की मांग करने वाले अभ्यर्थियों को उन्होंने कहा कि यह चुनावी सभा है। इसलिए कोई घोषणा नहीं कर सकते। इंजतार कीजिए। सब अच्छा होगा।

'मेरा पेट खराब होने वाला है'...'मां का निधन होने वाला है' छुट्टी के लिए बिहार के शिक्षक दे रहे अजीबोगरीब आवेदन

Edited By: Anil Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट