मुजफ्फरपुर, जेएनएन। दिल्ली की तर्ज पर स्मार्ट सिटी के साथ ग्रेटर मुजफ्फरपुर बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। इसके लिए कई स्तर से कार्य प्रारंभ हो चुके हैं। मुशहरी, तुर्की, मड़वन ग्रेटर मुजफ्फरपुर का एरिया बनेगा। नगर विकास विभाग के आदेश पर सर्वे शुरू किया गया है। आइआइटी रुड़की के तकनीकी विशेषज्ञों की टीम यहां जल्द पहुंचने वाली है।

इस संबंध में नगर विकास एवं आवास मंत्री सुरेश शर्मा ने कहा कि मुजफ्फरपुर के विधायक होने और राज्य के मंत्री होने के नाते मुजफ्फरपुर को स्मार्ट सिटी के साथ तीन प्रखंडों को जोड़कर ग्रेटर मुजफ्फरपुर बनाना चाहता हूं। इसमें जनता के सहयोग अपेक्षित है।

वाटर ट्रीटमेंट प्लांट लगाना जरूरी

अमृत योजना से स्मार्ट सिटी बनाने के लिए वाटर ट्रीटमेंट प्लांट (जल शोधन यंत्र) लगाना जरूरी है। शहर के फरदो नाले के साथ अन्य छोटी-बड़ी नालियों को जोड़ा जाएगा। बुडको द्वारा खाका तैयार किया गया है। मुशहरी, बेला औद्योगिक क्षेत्र तथा खबड़ा में प्लांट लगाने की तैयारी है।

बुडको के अधीक्षण अभियंता सुरेश प्रसाद सिन्हा ने बताया कि इसकी स्थापना से शुद्ध जल का प्रवाह मनिका मन में होगा। किसान पटवन या अन्य कृषि कार्य में इसे ला सकेंगे। इलाके का वाटर लेवल मेंटेन रहेगा। गंदे पानी से होनी वाली बीमारियों से काफी हद तक छुटकारा मिलेगा। उन्होंने कहा कि नाले के गंदे पानी के शोधन के बाद जो गाद निकलेगा उससे खाद का निर्माण होगा।

उन्होंने बताया कि मुशहरी मनिका में श्मशान के लिए चिह्नित जगह पर शेड, बैठने के साथ पेयजल की व्यवस्था की जाएगी। नगर विकास एवं आवास विभाग ने अधिकारियों को निर्देशित किया गया कि स्थानीय जनता से विचार-विमर्श कर शांतिपूर्ण तरीके से इस कार्य को किया जाए।

183.40 करोड़ रुपये से बनेगा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

वाटर ट्रीटमेंट प्लांट कार्य को आरंभ करने के लिए मनिका मन के पास उपलब्ध करीब छह एकड़ सरकारी जमीन में 3.5 एकड़ चिह्नित की गई है। इस योजना में लगभग 183.40 करोड़ रुपये खर्च होने हैं।

-वाटर ट्रीटमेंट प्लांट की कुल लागत 183.40 करोड़

-कल्याणी से फरदो नहर 34.5 करोड़, 5.5 किलोमीटर

-प्रभात जर्दा फैट्री से जेल होते मनिका, कच्ची-पक्की रोड से एनएच 1.5 किलोमीटर, बीबीगंज से भामा साह होते एनएच 2.5 किलोमीटर, सभी का 70 करोड़

यहां बनेगा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट

मनिका मन, खबड़ा, बेला औद्योगिक क्षेत्र दीघरा, कुल लागत 47.5 करोड़।

इसके उपरांत 300 करोड़ का डीपीआर बुडको द्वारा स्वीकृत, जिसकी निविदा द्वितीय फेज में की जाएगी, जो कि मुहल्ले के छोटे नालों को आउट फॉल नाला से जोड़ा जाएगा।

- जो कंपनी लगाएगी उसको दस साल का मेंटेनेंस भी करना है। 24.63 करोड़ की राशि मेंटेनेंस के लिए रखी गई है। 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस