मुजफ्फरपुर । कांग्रेस की ओर से आयोजित भारत बंद को सासद अजय निषाद ने विफल बताया। कहा कि बाजार में भय का माहौल रहा। काग्रेस, राजद, वामपंथी दलों के कार्यकर्ताओं ने जगह-जगह रिक्शा, टेंपो चालकों व छोटे-छोटे फुटपाथी दुकानदारों के साथ-साथ राहगीरों के साथ बदसलूकी की। यह काफी निंदनीय है। भारत बंद के दौरान आम लोग काफी परेशान रहे। आवागमन बाधित होने से बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा । वे खुद मोटरसाइकिल से शहर में निकले और जिलाधिकारी, आइजी कार्यालय सहित अधिवक्ताओं से मिलने न्यायालय परिसर गए, कहीं भी बंद का असर नहीं था। कहा कि देश में गरीबों की सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में चल रही है। विपक्षी पार्टियां महंगाई का भ्रम जनता के बीच फैला रही हैं। काग्रेस पार्टी का यह चरित्र रहा है कि वह सत्ता से अलग नहीं रहना चाहती। इधर, भाजपा नेता मनीष कुमार ने बंद को फ्लॉप बताते हुए कहा कि जगह-जगह अराजक स्थिति रही। भय के कारण लोग अपनी दुकान बंद करना मुनासिब समझे। राजग के संयोजक व जदयू के जिलाध्यक्ष हरिओम कुशवाहा ने कहा कि जनता ने बंद से खुद को अलग रखा। बंद में हुड़दंग से आम जनता परेशान रही। जदयू नेता ठाकुर हरिकिशोर सिंह, शैलेश कुमार शैलू, सुबोध सिंह, अजीत कुमार निराला, प्रो. धनंजय सिंह, इरफान दिलकश ने बंद को असफल बताया। लोजपा नेता जिला पार्षद कुमोद पासवान, युवा अध्यक्ष सुनील तिवारी, भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा के प्रदेश मंत्री मनोज कुमार चौधरी, हरिमोहन बैठा, कुनकुन चौधरी, केशव कुमार चौबे ने कहा कि विपक्ष की ओर से आयोजित बंद को जनता ने नकार दिया।

Posted By: Jagran