नौतन (पचं), जासं। प्रखंड के भगवानपुर गांव के समीप गंडक नदी में रामनाथ यादव के घाट पर हादसे में लापता लोगों की खोज को लेकर चल रहा रेस्क्यू गुरुवार की शाम में एक तरह से बंद कर दिया गया। अल सुबह से घाट पर लोगों की भीड़ धीरे- धीरे अपने- अपने घर को जाने लगी। प्रशासनिक अधिकारी भी चले गए। लेकिन, हादसे में लापता गोपालगंज के खेम मटियनिया के इंद्रजीत यादव की बहन निर्मला देवी घर जाने को तैयार नहीं है। उसका कहना है कि जब तक ङ्क्षजदा या मुर्दा उसका भाई मिल नहीं जाता है, तब तक वह घर नहीं जाएगी।

हालांकि निर्मला को घर लाने की कोशिश में उसके स्वजन लगे हुए हैं। बताया जाता है कि लापता चार लोगों के स्वजनों ने इस कड़ाके की ठंड में बीती रात गंडक नदी के तट पर हीं गुजारे थे। गुरुवार की सुबह में क्रेन व एंबुलेंस पहुंचने पर उन्हें उम्मीद बंधी थी कि लापता लोगों की खोज हो जाएगी। एनडीआरएफ की टीम के पहुंचने में करीब दो घंटे का विलंब हुआ तो स्वजनों की व्याकुलता बढऩे लगी थी। करीब 10 बजे के आसपास एनडीआरएफ की टीम पहुंची और रेस्क्यू आरंभ किया गया। स्थानीय गोताखोरों की मदद से ट्रैक्टर- ट्राली को सर्च कर क्रेन से निकला गया।

ट्राली में फंसी थी उमा देवी

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ट्रॉली में गोपालगंज के बरईपट्टी यादोपुर के जगतपति साह की पत्नी उमा देवी (60)फंसी थी। अन्य लापता लोग संभवत: पानी के बहाव में बहकर चले गए हैं। सीओ मिलते हीं घाट पर मौजूद मृतका के स्वजनों में चीत्कार मच गई। शव देखने के लिए भीड़ जुटी। लेकिन पुलिस जवानों ने मृतका के स्वजनों को छोड़कर किसी अन्य को वहां नहीं जाने दिया। लापता पुनीता कुमारी व सरोज कुमारी के स्वजनों का रो रोकर बुरा हाल है। भगवानपुर निवासी नंदलाल यादव ने कहा कि उसकी पुत्री अब तक नहीं मिली है। एनडीआरएफ की टीम सिर्फ घटनास्थल पर हीं रेस्क्यू कर रही है। आगे बढ़कर खोजने का प्रयास हो तो शायद मेरी बेटी का भी शव मिल जाए।

उठा पीपा पुल बनाने का मांग

दुर्घटना के बाद गुरुवार को विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं का घाट पर जुटान हुआ। मुआवजे और पीपी पुल निर्माण की मांग जोरदार ढंग से उठी। कांग्रेस के शेख कामरान ने भगवानपुर के पास गंडक नदी में पीपा पुल बनाने की मांग की। ताकि इस तरह की घटनाओं पर रोक लगे। भाकपा के जिला सचिव ओमप्रकाश क्रांति, बब्लू दूबे, शिवजी राय, केदार चौधरी, पीताम्बर शर्मा, तारीक अनवर ने मृतक के परिजनों से मिलकर घटना की जानकारी ली। साथ ही जिला प्रशासन और राज्य सरकार से मांग किया है कि पीपा पुल का निर्माण अविलंब कराया जाय। ताकि नाव को छोड़ किसान गंडक पार अपने खेतों में पीपा पुल पार कर खेतीबारी कर सकें।

Edited By: Dharmendra Kumar Singh