मुजफ्फरपुर, जेएनएन। बीआरए बिहार विश्वविद्यालय प्रशासन ने कोरोना वायरस को लेकर अलर्ट जारी किया है। विवि और इससे संबद्ध सभी कॉलेजों में अगले आदेश तक शिक्षकों व कर्मियों से बायोमीट्रिक अटेंडेंस नहीं बनाने को कहा गया है। कुलपति की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि वे पूर्व की तरह रजिस्टर पर अपनी उपस्थिति दर्ज करेंगे।

कोरोना को लेकर अलर्ट

यूजीसी की ओर से गुरुवार को पत्र मिलने के बाद विवि प्रशासन ने ये निर्णय लिया है। पत्र में कहा गया है कि विवि और संबद्ध कॉलेजों के अधिकारी व कर्मी कोरोना को लेकर अलर्ट रहें। परिसर में अनावश्यक भीड़ नहीं लगाएं। साथ ही शिक्षकों को कहा गया था कि यदि किसी विद्यार्थी को सर्दी या जुकाम हो तो उसे डॉक्टर से जांच कराने और ठीक होने तक कैंपस से दूर रहने की सलाह दें। साथ ही विश्वविद्यालय और कॉलेज में हैंडवास व सेनेटाइजर उपलब्ध कराने तथा क्लासरूम में साबुन व पानी की व्यवस्था करने को कहा गया है।

कोरोना प्रभावित देश से लौटने वालों पर नजर रखेंगे अधिकारी

निगरानी करने को कहा

विवि परिसर में आनेवाले ऐसे लोगों पर नजर रखने को कहा गया है, जिन्होंने पिछले 28 दिनों में कोरोना प्रभावित देश का दौरा किया हो या पिछले 14 दिनों में ऐसे देश के लोगों के संपर्क में रहे हों। अधिकारियों को ऐसे लोगों पर निगरानी करने को कहा गया है।  

कोरोना वायरस प्रशिक्षण को दो चिकित्सक गए पटना

एसकेएमसीएच से कोरोना वायरस के मद्देनजर पटना में आयोजित एक दिवसीय प्रशिक्षण में दो चिकित्सक एवं एक प्रयोगशाला प्रावैधिक को शामिल होने के लिए भेजा गया है। इसमें औषधि विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. अमित कुमार, माइक्रोबायोलॉजी विभाग के सहायक प्राध्यापक डॉ. सुमन कुमार एवं वायरोलॉजी के प्रयोगशाला प्रावैधिक मजहर इकबाल जहिदी को स्वास्थ्य विभाग के आदेश पर प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने भेजा है। इस प्रशिक्षण के पश्चात कोराना वायरस के इलाज में सहूलियत होगी। उधर, प्राचार्य डॉ. विकास कुमार ने बैठक कर कार्य पर चिकित्सक एवं तकनीशियन के उपस्थिति को तैनात रहने को कहा। इसके साथ ही कोरोना वायरस को लेकर एसकेएमसीएच में स्पेशल वार्ड तैयार किया है। यह वार्ड आइसोलेशन कक्ष के ऊपर भवन में बनाया गया है, जहां कोरोना वायरस के इलाज की सभी आवश्यक दवाओं के साथ अत्याधुनिक उपकरण व मशीनें उपलब्ध कराई गई हैं। 

तीन लोगों को की हो चुकी है जांच

एसकेएमसीएच के वायरोलॉजी विभाग में तीन लोगों की जांच की जा चुकी है। इन्हें संदिग्ध मानते हुए जांच कराई गई, लेकिन कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हुई है। उधर, गृह व स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देश पर कोरोना वायरस को लेकर मॉनीटरिंग शुरू है। कोरोना वायरस के नोडल पदाधिकारी डॉ. अमित कुमार बनाए गए हैं। 

इन लक्षणों पर दें ध्यान

हल्का बुखार लगना, कमजोरी के साथ तेज सर्दी होना, कफ से नाक का भर जाना, सांस लेने में परेशानी होना व निमोनिया होने पर तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें। 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस