पूर्वी चंपारण, [विजय कुमार गिरि]। नेपाल के विभिन्न जिलों के 36 हेक्टेयर भू-भाग पर चीन ने कब्जा कर लिया है। इसको लेकर नेपाल के राष्ट्रवादी दलों ने सरकार से सवाल किया है। इसका खुलासा नेपाल कृषि मंत्रालय अंतर्गत की मापी शाखा के एक पत्र से हुआ है। सीमा अध्ययन टीम ने करीब पांच वर्ष पूर्व नेपाल-चीन सीमा की पैमाइश की थी। इसके उपरांत सरकार को जांच प्रतिवेदन सौंपा था। उसमें बताया है कि पड़ोसी मुल्क चीन नेपाल के सखुवासभा, रसुवा, सिंधुपालचौक और हुमला सीमा क्षेत्र के समीप उक्त भूमि पर कब्जा किया है। परंतु, नेपाल की ओली सरकार इस रिपोर्ट पर फिलहाल चुप है। इस क्षेत्र में पठारी मैदान और पहाड़ जंगल युक्त खाली भू-भाग है। जिस पर चीन का कब्जा है। जांच प्रतिवेदन में बताया गया है कि नेपाल चीन सीमा से तिब्बत को जोडऩे का चीन के इस योजना में हजारों हेक्टर भूमि नेपाल का चीन हथियाने के फिराक में है। नेपाल मापी शाखा ने इसकी आशंका व्यक्त की है। इसको लेकर अलर्ट किया है।

नेपाल की भूमि कब्जा करने का आरोप

बता दें कि नेपाल में ओली सरकार ने कलापानी और लिपुलेख में भारत पर नेपाल की भूमि कब्जा करने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही आनन-फानन में एक नया नक्शा जारी किया है। जिसमें मानसरोवर जाने वाले उक्त क्षेत्र को नेपाल की भूमि बताया है। जिसको लेकर नेपाल के सोशल मीडिया पर भारत विरोधी वातावरण बनाने का प्रयास चल रहा है। जिसे इंडो-नेपाल बार्डर पर तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न हो गई है। दोनों देशों के प्रबुद्ध लोग इसको लेकर चिंतित हैं।

भारत विरोधी संगठन लाभ लेने के प्रयास में 

इस बीच नेपाल सरकार की कृषि मंत्रालय मापी शाखा का पत्र मिला है। जिसमें चीन द्वारा नेपाल की भूमि कब्जा करने का आरोप है। इधर भारत विरोधी संगठनों ने इस विवाद का लाभ लेने के प्रयास में जुट गए है। जिसे पहाड़ी और भारतीय लोगों के बीच झड़प की स्थिति उत्पन्न हो गई है। इसे दोनों देशों के संबंध पर असर पडऩे लगा है। सीमा विवाद को लेकर चल रहे नेपाल में भारत के खिलाफ आंदोलन चल रहा है।

चीन ने नेपाल की इतनी जमीन पर कब्जा किया

नेपाल कृषि मंत्रालय मापी शाखा में अंकित विवरण के अनुसार चीन ने विभिन्न स्थलों पर नेपाल का भूमि कब्जा कर रखा है। हुमला के भागेदारी खोला 6 हेक्टेयर, कर्णाली 4 हेक्टेयर, रसुवा$के सनजे खोला 2 हेक्टेयर

भुजुर्ग और लेमदे खोला के एक-एक हेक्टेयर, जबमु खोला 3 हेक्टेयर, सिंधुपालचौक खराने खोला 7 हेक्टेयर, भोटेकोशी 4 हेक्टेयर, समजुंग खोल 3 हेक्टेयर, कामखोला 2 हेक्टेयर, सखुवासभा अरुण नदी 4 हेक्टेयर।  

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस