मुजफ्फरपुर। एनडीआरएफ टीम द्वारा राजकीय प्लस टू उच्च विद्यालय कुमारबा़ग, बेतिया में स्कूल सेफ्टी प्रोग्राम चलाया गया। इसके तहत स्कूल के बच्चों व शिक्षकों को आपदा के समय व आपदा से पूर्व तैयारी के बारे में विस्तार से समझाया गया। जिला आपदा प्रबंधन पदाधिकारी मनीष कुमार ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि जागरुकता के माध्यम से आपदा के प्रभाव को कम किया जा सकता है। आपदा के समय घबराने की जगह शांत दिमाग से उचित पहल करने की कोशिश करनी चाहिए। सबसे बड़ी बात यह कि आपदा आए इसके लिए पूर्व से तैयारी व जागरुक रहना चाहिए। वहीं ग्रुप कमांडर जयप्रकाश प्रसाद ने बताया कि हर स्कूल का डिजास्टर प्लान होना चाहिए, जिससे कि आपदा के समय अफरातफरी का माहौल नहीं बने। वही टीम कमांडर राजकुमार मीणा छात्रों को संबोधित करते हुए बताया कि हर स्कूल में आपदा से निपटने के लिए कुछ टीम बनाई जाए, जिसमें कुछ छात्र व शिक्षक शामिल हो। समय -समय पर मॉक ड्रिल का भी आयोजन होते रहना चाहिए। इससे सबको अपने -अपने काम का पता रहे कि आपदा के दौरान किसे तरह बचाव किया जा सकता है। साथ ही यह भी बताया गया कि भूकंप आने पर घबराये नही, ना ही भागदौड़ करे। भूकंप के दौरान अपनी-अपनी जगह पर ही टेबल के नीचे छिप जाए और अपने सिर को बचाये। झुको, ढंको, पकड़ों का तकनीक अपनाएं। इसके साथ ही सड़क दुर्घटना, हार्ट अटैक, सर्पदंश, बाढ़, खून को रोकना, हड्डी टूटना, आदि विषयों पर काफी विस्तार से बताया गया। प्रभारी प्रधानाध्यापक राजकिशोर पांडेय, शिक्षिका मेरी एडलीन ने उपस्थित एनडीआरएफ की टीम के सदस्यों को धन्यवाद ज्ञापन किया। इस मौके एनडीआरएफ टीईएएम के कार्मिक इंस्पेक्टर राजकुमार मीणा, सब इंस्पेक्टर के. साहू, मुख्य आरक्षक त्रिभुवन तिवारी आरक्षक दीपू झा, आरक्षक रंजन कुमार दुबे, मुख्य आरक्षक धन ¨सह, आरक्षक कोमल कुमार, राकेश कुमार, मुख्य आरक्षक राकेश कुमार, समन्वयक राकेश डिक्रूज, प्रकाश श्रीवास्तव सहित विद्यालय के शिक्षक रवि कुमार, राजन कुमार चंद्रशेखर तिवारी, मधुरेन्द्र तिवारी, शिक्षिका रानी कुमारी, रि•ावाना तब्बसुम, सुनीता कुमारी, सोमा मिस, स्वर्णलता मिस, आशा वर्मा सहित सभी शिक्षक, शिक्षकेतर कर्मी मौजूद थे।

Posted By: Jagran