मुजफ्फरपुर। मुशहरी थाना क्षेत्र के रघुनाथपुर जगदीश में चोरी की बाइक बरामद करने गई पुलिस पर हमला मामले में 17 नामजद व 20 अज्ञात पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। वहीं इस मामले में नया मोड़ आ गया है। आरोपित के पिता कमलेश दास व ग्रामीणों ने पुलिस के साथ धक्का-मुक्की व मारपीट की घटना को गलत बताया है। कहा है कि प्रेम विवाह के मामले में पुलिस फर्जी तरीके से दूसरे केस में फंसा रही है। उनके पुत्र सुजीत कुमार ने मुशहरी थाना क्षेत्र के एक गाव की युवती के साथ प्रेम विवाह किया है। इस मामले में पुलिस बिना कोई केस के उनके दो बेटों को जबरन गाड़ी में बैठा लिया था। उक्त युवती की वापसी का दबाव बना रही थी। इसका हमलोगों ने शातिपूर्वक विरोध किया। पुलिस के साथ मारपीट और गाड़ी का शीशा तोड़ने का आरोप मनगढ़ंत है। स्थानीय लोगों ने बताया कि एक चौकीदार की कार्यशैली पर कुछ लोग नाराज जरूर हुए थे।

उधर, इस मामले में थानाध्यक्ष शशिभूषण कुमार के बयान पर मुशहरी थाना में रघुनाथपुर जगदीश के 17 नामजद व 20 अज्ञात लोगों के विरुद्ध सरकारी कार्य में बाधा डालने, धक्का-मुक्की करने, पुलिस गाड़ी का शीशा फोड़ने, सरकारी वाहन पर र्इंट-पत्थर चलाने, चौकीदारों के साथ दु‌र्व्यवहार करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसका अनुसंधानक अवर निरीक्षक रामचरित्र दास को बनाया गया है। प्राथमिकी अभियुक्तों में अजित कुमार, श्याम कुमार, संतोष कुमार, दिलीप कुमार, कमलेश दास, रामचंद्र दास, जतन दास, चिंटू कुमार, मंतून दास, मुकेश कुमार, सदन रजक व मदन रजक शामिल हैं। इस मामले में सकरा इंस्पेक्टर ने देर शाम थाने में आकर घटना की जानकारी ली और आवश्यक निर्देश दिए। बहरहाल घटना को लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है। वहीं, पुलिस का कहना है कि वह कमलेश दास के घर पर चोरी की बाइक होने की सूचना पर छापेमारी करने गई थी। समाचार लिखे जाने तक न बाइक बरामद हो सकी थी और न ही किसी की गिरफ्तारी।

थानाध्यक्ष शशिभूषण कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। शीघ्र ही आरोपितों की गिरफ्तारी की जाएगी। उन्होंने प्रेम प्रसंग के विवाह में युवती को छुड़ाने के लिए दबाव बनाने की घटना से इन्कार किया है।

Edited By: Jagran