बेतिया, जेएनएन। पुलिस ने शराब पीने के आरोप में एक व्‍यक्ति को गिरफ्तार किया था। उसकी गिरफ्तारी 13 अक्‍टूबर को हुई थी। लेकिन शुक्रवार की सुबह उस कैदी की मौत हो गई। पुलिस ने उसे गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज बेतिया में इलाज के लिए एडमिट कराया था। मृतक कैदी की पहचान नरकटियागंज पुरानी बाजार निवासी मिट्ठू पटेल (30) के रूप में की गई है।

इस घटना के विरोध में मृतक के परिजनों एवं अन्य ग्रामीणों ने शुक्रवार की दोपहर में नरकटियागंज-सहोदरा मुख्यमार्ग को टीपी वर्मा कॉलेज के पास जाम कर दिया। सड़क पर आगजनी कर पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की। मृतक की पत्नी सीता देवी ने आरोप लगाया है कि गिरफ्तारी के वक्त पुलिस बेरहमी के साथ पिटाई की थी। 15 अक्टूबर की शाम में मिट्ठू पटेल के साथ तीन अन्य आरोपितों को न्यायिक हिरासत में भेजा गया।

पत्‍नी ने यह भी आरोप लगाया कि पुलिस की पिटाई के कारण ही मिट्ठू की मौत हुई है। सड़क जाम कर रहे लोग शिकारपुर पुलिस के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे। करीब दो घंटे तक आवागमन बाधित रहा। बाद में थानाध्यक्ष उग्रनाथ झा ने आश्वासन दिया कि मृतक का पोस्टमार्टम कराया जा रहा है। रिपोर्ट में अगर पिटाई से मौत की बात सामने आएगी तो दोषी पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई होगी। इसके बाद आक्रोशित लोग शांत हो गए।

उधर, जेल सुपरिटेंडेंट रामाधार सिंह ने बताया कि 16 अक्टूबर की सुबह अचानक कैदी की तबीयत बिगड़ गई। जेल के चिकित्सकों ने इलाज किया। उसकी हालत गंभीर देख गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में रेफर कर दिया गया। जहां इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई है।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप