मुजफ्फरपुर, जेएनएन। जिले में ठंड का कहर जारी है। धूप निकलने के बाद भी ठिठुरन कम नहीं हो रही। अधिकतम तापमान 14.5 व न्यूनतम 6.5 डिग्री सेल्सियस रह रहा। सामान्य तापमान से अधिकतम तापमान में करीब साढ़े सात से आठ डिग्री व न्यूनतम तापमान में दो डिग्री की गिरावट आई है। गलन और कनकनी से लोग बेहाल हैं। शाम ढलते ही लोग घरों में दुबक जा रहे हैं।

 सड़कों पर सन्नाटा पसर जा रहा है। सुबह में देर से निकलते हैं। बीते कुछ दिनों से अत्यधिक ठंड से लोगों की जिदंगी ठिठक गई है। डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय, पूसा के मौसम वैज्ञानिक डॉ. ए सत्तार के अनुसार ठंड का कहर अभी कुछ दिनों तक जारी रहेगा। अधिकतम व न्यूनतम तापमान दोनों सामान्य से नीचे आ गया है।

वहीं, ध्रुवीय क्षेत्र से हवा का प्रवेश व सर्द पछिया हवा के साथ-साथ पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता कहर बरपा रही। अगले दो दिनों तक पछिया हवा चलने व कड़ाके की ठंड पडऩे की संभावना है। न्यूनतम तापमान में 31 दिसंबर के बाद ही बढ़ोतरी की उम्मीद है। कई क्षेत्रों में सुबह व शाम हल्के से घना कुहासा लग सकता है।

 शुक्रवार और शनिवार की ठंड ने अपनी-अपनी तिथियों में 35 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। मौसम विभाग ने चेतावनी दी है कि शीतलहर अभी जारी रहेगी। तीन-चार दिनों तक अभी यही स्थिति बनी रह सकती है। कई स्थानों पर कुहासा पडऩे की संभावना जताई गई है। नववर्ष की शुरुआत में बूंदाबांदी हो सकती है।

 ग्रामीण इलाकों में भी अत्यधिक ठंड से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। लोग शाम ढलते ही घरों में चले जाते हैं। जरूरी काम से ही लोग अपने घरों से निकले। कड़ाके की ठंड से गरीबों की जान पर बन आई है। उनकी रातें झोपड़ी में कट रही हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब पते व सूखी झाडिय़ों को जलाकर किसी तरह अपने को ठंड से बचाते हैं। प्रशासन की ओर से कहीं-कहीं अलाव जलाया जा रहा है। इससे उनको थोड़ी राहत जरूर मिल रही है।

 

Posted By: Ajit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस